"तंजावुर" के अवतरणों में अंतर

44 बैट्स् नीकाले गए ,  4 वर्ष पहले
8.37.225.163 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 3485362 को पूर्ववत किया
(8.37.225.163 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 3485362 को पूर्ववत किया)
{{main|बृहदेश्वर मंदिर}}
[[चित्र:Brihadeeswara.jpg|right|thumb|बृहदेश्वर मंदिर]]
इस मंदिर का निर्माण महान चोल राजा [[राजराज गुर्जर चोल]] ने करवाया था। यह मंदिर भारतीय शिल्प और वास्तु कला का अदभूत उदाहरण है। मंदिर के दो तरफ खाई है और एक ओर अनाईकट नदी बहती है। अन्य मंदिरों से अलग इस मंदिर में गर्भगृह के ऊपर बड़ी मीनार है जो 216 फुट ऊंची है। मीनार के ऊपर कांसे का स्तूप है। मंदिर की दीवारों पर चोल गूर्जरों और नायक काल के चित्र बने हैं जो अजंता की गुफाओं की याद दिलाते हैं। मंदिर के अंदर नंदी बैल की विशालकाय प्रतिमा है। यह मूर्ति 12 फीट ऊंची है और इसका वजन 25 टन है। नायक शासकों ने नंदी को धूप और बारिश से बचाने के लिए मंडप का निर्माण कराया था। मंदिर में मुख्य रूप से तीन उत्सव मनाए जाते हैं- मसी माह (फरवरी-मार्च) में शिवरात्रि, पुरत्तसी (सितंबर-अक्टूबर) में नवरात्रि और ऐपस्सी (नवंबर-दिसंबर) में राजराजन उत्सव। इस ज़िले में कई शहर विकसित हुए हैं, जिनमें तंजावुर, कुंबकोणम और नागापट्टिम बड़े शहर हैं।
 
=== सरस्वती महल पुस्तकालय ===