"शिलारस": अवतरणों में अंतर

आकार में बदलाव नहीं आया ,  5 वर्ष पहले
→‎top: ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: उपर → ऊपर
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
(→‎top: ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: उपर → ऊपर)
[[चित्र:Petroleum.JPG|right|thumb|250px|बिना साफ़ किया शिलारस (कच्चा शिलारस)]]
'''शिलारस''' (पेट्रोलियम) एक अत्यधिक उपयोगी पदार्थ हैं, जिसका उपयोग देनिक जीवन में बहुत अधिक होता हैं। शिलारस वास्तव में [[उदप्रांगार|उदप्रांगारों]] का मिश्रण होता है। इसका निर्माण भी कोयले की तरह वनस्पतियों के पृथ्वी के नीचे दबने तथा कालांतर में उनके उपरऊपर उच्च दाब तथा ताप के आपतन के कारण हुआ। प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले शिलारस को अपरिष्कृत तेल (Crude Oil) कहते हैं जो काले रंग का गाढ़ा द्रव होता है। इसके [[प्रभाजी आसवन]] (फ्रैक्शनल डिस्टिलेशन) से [[केरोसिन]], [[पेट्रोल]], [[डीज़ल]], [[प्राकृतिक गैस]], [[वेसलीन]], ल्यूब्रिकेंट तेल इत्यादि प्राप्त होते हैं।
 
दरअसल जब तेल के भंडार पृथ्वी पर कहीं ढूंढे जाते हैं, तब यह गाढ़े काले रंग का होता है। जिसे क्रूड ऑयल कहा जाता है और इसमें [[उदप्रांगार|उदप्रांगारों]] की बहुलता होती है। उदप्रांगारों की खासियत यह होती है कि इनमें मौजूद हाइड्रोजन और [[प्रांगार]] के अणु एक दूसरे से विभिन्न श्रृंखलाओं में बंधे होते हैं। ये श्रृंखलाएं तरह-तरह की होती हैं। यही श्रृंखलाएं विभिन्न प्रकार के तेल उत्पादों का स्रोत होती हैं। इनकी सबसे छोटी श्रृंखला मिथेन नामक प्रोडक्ट का आधार बनती है। इनमें लंबी श्रृंखलाओं वाले उदप्रांगारों ठोस जैसे कि मोम या टार नामक उत्पाद का निर्माण करते हैं।