"अफ़्रीका की अर्थव्यवस्था": अवतरणों में अंतर

→‎top: ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: देशो → देशों (3)
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
(→‎top: ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: देशो → देशों (3))
|-
!
! सन २००८ के तथ्य<ref> [http://www.africaneconomicoutlook.org/en/data-statistics/ African Economic Outlook] </ref>
 
|-
| जनसँख्या
| ९८.७ करोड़
 
|-
| क्षेत्रफल
| २.९३ करोड़ वर्ग किलोमीटर
 
|-
| जनसँख्या घनत्व
| ८५
 
|-
{{legend|#7E8000|UMA}}
]]
प्राकृतिक संसाधनों से परिपूर्ण होते ही भी अफ्रीका विश्व का सबसे दरिद्र और सबसे अविकसित भू भाग है। अफ्रीका का इतिहास भयंकर महामारियों जैसे मलेरिया, एच. आई। वी, सैनिक विद्रोह, जातीय हिंसा आदि घटनाओं से भरा हुआ है जो इसके वर्तमान स्थिति के लिए जिम्मेदार है।<ref> Richard Sandbrook, The Politics of Africa's Economic Stagnation, Cambridge University Press, Cambridge, 1985 passim </ref> संयुक्त राष्ट्र द्वारा सन २००३ में प्रकाशित मानव विकास रिपोर्ट में अफ्रीका के २५ देशोदेशों ने सूची में सबसे निचला स्थान प्राप्त किया है।<ref>[http://hdr.undp.org/], [[संयुक्त राष्ट्र]]</ref>
 
सन १९९५ से २००५ तक अफ्रीका की अर्थव्यवस्था में सुधार आया और वर्ष २००५ के लिए यह औसतन ५ प्रतिशत रही। कुछ देश जैसे [[अंगोला]], [[सूडान]] और [[ईक्वीटोरियल गिनी]] जिन्होंने अपने पेट्रोलियम भंडारों अथवा पेट्रोलियम वितरण प्रणाली का विस्तार किया ने औसत से अधिक विकास दर दर्ज की। विगत कुछ वर्षों में [[चीन]] ने अफ्रीकी देशोदेशों में काफी निवेश किया है। सन २००७ में चीनी उपक्रमों ने अफ्रीकी देशोदेशों में कुल १ बिलियन डॉलर का निवेश किया।<ref>[http://www.migrationinformation.org/Feature/display.cfm?id=690 China and Africa: Stronger Economic Ties Mean More Migration], By Malia Politzer, ''Migration Information Source'', August 2008 </ref>
 
== क्षेत्रीय विभिन्नता ==