"हाइड्रोजन" के अवतरणों में अंतर

6 बैट्स् नीकाले गए ,  4 वर्ष पहले
लाल कड़ियां हटाई
(वर्तनी संबंधी सुधार)
(लाल कड़ियां हटाई)
 
== निर्माण ==
प्रयोगशाला में जस्ते पर तनु [[गंधक अम्ल]] की क्रिया से यह प्राप्त होता है। युद्ध के कामों के लिए कई सरल विधियों से यह प्राप्त हो सकता है। 'सिलिकोल' विधि में सिलिकन या फेरो सिलिकन पर [[सोडियम हाइड्राक्साइड]] की क्रिया से ; 'हाइड्रोलिथ' (जलीय अश्म) विधि में कैलसियम हाइड्राइड पर जल की क्रिया से ; 'हाइड्रिक' विधि में एलुमिनियम पर सोडियम हाइड्राक्साइड की क्रिया से प्राप्त होता है। गर्म स्पंजी लोहे पर भाप की क्रिया से एक समय बड़ी मात्रा में हाइड्रोजन तैयार होता था।
 
आज हाइड्रोजन प्राप्त करने की सबसे सस्ती विधि 'जल गैस' है। जल गैस में हाइड्रोजन और कार्बन मोनोक्साइड विशेष रूप से रहते हैं। जल गैस को ठंडाकर द्रव में परिणत करते हैं। द्रव का फिर प्रभाजक आसवन करते हैं। इससे [[कार्बन मनॉक्साइडमोनोऑक्साइड]] (क्वथनांक 191° सें.) और [[नाइट्रोजन]] (क्वथनांक 195 सें.) पहले निकल जाते हैं और हाइड्रोजन (क्वथनांक 250° से.) शेष रह जाता है।
 
[[जल का विद्युत अपघटन|जल के वैद्युत अघटन]] से भी पर्याप्त शुद्ध हाइड्रोजन प्राप्त हो सकता है। एक किलोवाट घंटासे लगभग 7 घन फुट हाइड्रोजन प्राप्त हो सकता है। कुछ विद्युत्‌ अपघटनी निर्माण में जैसे [[नमक]] से [[दाहक सोडा]] के निर्माण में, उपोत्पाद के रूप में बड़ी मात्रा में हाइड्रोजन प्राप्त होता है।
 
== उपयोग ==
हाइड्रोजन के अनेक उपयोग हैं। हेबर विधि में [[नाइट्रोजन ]]के साथ संयुक्त हो यह अमोनिया बनता है जो [[उर्वरक]] के रूप में व्यवहार में आता है। तेल के साथ संयुक्त होकर हाइड्रोजन [[वनस्पति तेल]] (ठोस या अर्धठोस वसा) बनाता है। खाद्य के रूप में प्रयुक्त होने के लिए वनस्पति तेल बहुत बड़ी मात्रा (mass scale) में बनती है। अपचायक के रूप में यह अनेक धातुओं के निर्माण में काम आता है। इसकी सहायता से कोयले से [[संश्लिष्ट पेट्रोलियम]] भी बनाया जाता है। अनेक ईधंनों में हाइड्रोजन जलकर ऊष्मा उत्पन्न करता है। [[ऑक्सीहाइड्रोजन ज्वाला]] का ताप बहुत ऊँचा होता है। वह ज्वाला धातुओं के काटने, जोड़ने और पिघलाने में काम आती है। विद्युत्‌ चाप (electric arc) में हाइड्रोजन के अणु के तोड़ने से परमाण्वीय हाइड्रोजन ज्वाला प्राप्त होती है जिसका ताप 3370° सें. तक हो सकता है।
 
हल्का होने के कारण गुब्बारा और वायुपोतों में हाइड्रोजन प्रयुक्त होता है तथा इसका स्थान अब [[हीलियम]] ले रहा है।
128

सम्पादन