"रामकृष्ण परमहंस" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् नीकाले गए ,  3 वर्ष पहले
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
अंत में वह दुख का दिन आ गया। 1886 ई. 16 अगस्त सवेरा होने के कुछ ही वक्त पहले आनन्दघन विग्रह श्रीरामकृष्ण इस नश्वर देह को त्याग कर महासमाधि द्वारा स्व-स्वरुप में लीन हो गये।
 
[[चित्र:Ramakrishna Marble Statue.jpg|thumb|right|[[ रामकृष्ण मिशन ]] का मुख्यालय [[ बेलुड़बेलूर मठ ]]में स्थित श्रीरामकृष्ण की मार्वलमार्बल प्रतिमा]]
 
== उपदेश और वाणी ==
238

सम्पादन