"ज्ञान योग" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छोNo edit summary
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
'''ज्ञान योग''' ''स्वंज्ञान'' अर्थात स्वं का जानकारी प्राप्त करने को कहते है। ये अपनी और अपनीअपने परिवेश को अनुभव करने के माध्यम से समझना है।
स्वामी विवेकानन्द के ज्ञानयोग सम्बन्धित व्याख्यान, उपदेशों तथा लेखों को लिपिबद्ध कर 'ज्ञानयोग' पुस्तक में संकलित किया है। ज्ञान के माध्यम से ईश्वरीय स्वरूप का ज्ञान, वास्तविक सत्य का ज्ञान ही ज्ञानयोग का लक्ष्य है। स्वामी विवेकानंद द्वारा रचित ज्ञानयोग वेदांत के अंतर्गत सत्यों को बताकर वेदांत के सार रूप में प्रस्तुत है।
 
एक रूप में ज्ञानयोगी व्यक्ति ज्ञान द्वारा ईश्वरीयप्राप्तिईश्वरप्राप्ति मार्ग में प्रेरित होता है। स्वामी विवेकानंद द्वारा रचित ज्ञानयोग में मायावाद,मनुष्य का यथार्थ व प्रकृत स्वरूप,माया और मुक्ति,ब्रह्म और जगत,अंतर्जगत,बहिर्जगत,बहुतत्व में एकत्व,ब्रह्म दर्शन,आत्मा का मुक्त स्वभाव आदि नामोनामों से उनके द्वारा दिये भाषणोभाषणों का संकलन है।
 
अब यदि विश्लेषण किया जाये तो वास्तव में ज्ञान योगी मायावाद के असल तत्व को जानकर,अपनी वास्तविकता और वेदांत के अद्वेतअद्वैत मत के अनुरूप आत्मा के वास्तविक स्वरूप को जानकर मुक्ति प्राप्त करता हे।है।
 
== इन्हें भी देखें ==
238

सम्पादन