"सदस्य:Chaitranaidu/प्रयोगपृष्ठ/नैन्सी प्राइस" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
जब नैन्सी प्राइस स्कूल मे थी वि एफ आर बेन्सन कि थिएटर कम्पनी मे शामिल थी। वो कम्पनी शेक्सपियर के नाटको मे विशेष है। उनका पहला बडा ब्रेक तब आया जब उनहोने सर हर्बर्ट बीरबोहम पेड का ध्यान आकर्षित किया जिन्होने १९०२ मे स्टीफन फलिप्स के उलेजिस के उदय मे अपने महामहिम के थिएटर लन्दन मे कैलिस्पो के रूप मे उतारा था जिसमे उन्होने एक बडी भूमिका निभाई थी। हिल्डा गनिङ का हिस्सा १९०४ लेट्टी मे उनके लिए आर्थर विनग पिनोरा द्वारा लिखित है। वो एक भूमिका थि जिनमे थिएटर आलोचक जेटी ग्रिन ने कहा कि लेट्टी मे सब ने अपना प्रसिद्द्द बनाया जबकी नैन्सी प्राइस ने हिल्दा के हिस्से मे अपना नाम बनाया। अगर हम चरित्र को सहि तरिके से पडते है तो नैन्सी प्राइस ने इसे पर्णता के करीब समझा। डच मे जन्मे थिएटर इप्रेसियो जेटी ग्रिन के साथ नैन्सी प्राइस ने पिपल्स नेशनल थिएटर कि स्थापना १९३० मे की थी। उनका पेहला उत्पादन फोर्चून कम्पनी थिएटर मे एक एस्टी द्वारा ब्लेकलीज़ द मैन था। जब ग्रिन ने कम्पनी छोड दिया नैन्सी प्राइस कम्पनी का मानद निर्देशक बन गई। १९३२ मे थिएटर के विनाश के साथ इस कम्पनी का समाप्त हुआ। इस अवधि के दौराण नैन्सी ने अंग्रेज़ी स्कूल थिएटर मूवमेन्ट का स्थापना किया, जिसने शेक्सपियर के निर्माण के कामकाजी बच्चो के लिए नाटक किया।
 
१९५० मे किग्स बर्थेडॅ ओनर्स मे नैन्सी प्राइस को मन्च के लिए सेवाओ के लिए एक सीबीई से सम्मानित किया गया। उसी वर्ष मे उसने एडीन फिलपोउदस के औरेञ और्काड मे न्यू लिडसे मे मार्था ब्लेचर्ड के रूप मे अपना आखरी मन्च प्रदर्शन दिया।उन्होंने १७ मई १९०७ को अभिनेता चार्ल्स मॉड से शादी की, और १९४३ में उनकी मृत्यु तक वे एक साथ थे। उनके पास दो बेटियां, जोन मौड और एलिजाबेथ मौड थे। जोआन, एलिजाबेथ, और एलिजाबेथ की बेटी जेनिफर फ़िप्स सभी अभिनेत्रियों बन गए। जल्द ही चार्ल्स और नैन्सी की बेटियों का जन्म होने के बाद, उन्होंने ससेक्स में अपने घर के रिओडन के गांव को हीथ लेन पर डाउस पर आर्किका नामक कुटीर में रहते हुए बनाया। १९७० में उनकी मृत्यु तक खोजोन अपने घर बना रहा। लन्दन के वेस्ट एंड में एक अभिनेत्री के रूप में खुद को स्थापित करने के बाद, नैन्सी की पहली फिल्म भूमिका काले और सफेद, मूक फिल्म द ल्यॉन्स मेल में थी अगले दशक में वह अपनी पहली 'टॉकी', द अमेरिकन कैदीर, जो १९२९ में मोनो ध्वनि में दर्ज की गई थी, से पहले एक और आठ मूक फिल्मों में दिखाई दी। आखिरी मौन वाली फिल्म में वह द डायरेक्ट ऑफ़ द प्रेजर को निर्माता ऑस्वाल्ड मिशेल ध्वनि को शामिल करने और नाम के तहत जारी इस तरह के कानून है।
42

सम्पादन