"खण्डकाव्य" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् नीकाले गए ,  10 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(नया पृष्ठ: '''खंडकाव्य''' साहित्य में प्रबंध काव्य का एक रूप है। संस्कृत स…)
 
 
भाषा विभाषा नियमात् काव्यं सर्गसमुत्थितम् ।
 
एकार्थप्रवणै: पद्यै: संधि-साग्रयवर्जितम् ।
 
खंड काव्यं भवेत् काव्यस्यैक देशानुसारि च।