"कानपुर नगर जिला" के अवतरणों में अंतर

748 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
 
== औद्योगिक द्रष्टिकोण ==
औद्योगिक द्रष्टिकोण से देखा जाए तो भारत में चेन्नई के बाद चमड़े का सबसे जादा उत्पादन कानपुर में ही होता है । यही कारण है की कानपुर नगर को लेदर सिटी के नाम से जाना जाता है , और उत्तर भारत का मैनचेस्टर भी कहा जाता है । यहाँ लगभग 400 चमड़े की टेनरीज है तथा 1000 घरेलु इकाईयां है । जहा मुख्यतः भैस के चमड़े का कार्य होता है। यहाँ 1200 करोड़ रुपये का वार्षिक सामग्री चमड़ा तैयार किया जाता है। 6500 करोड़ रुपये के चमड़े का वार्षिक निर्यात किया जाता है तथा 1000 करोड़ रूपए का सालाना निर्यात घरेलु इकाईयों द्वारा किया जाता है ।
 
यहाँ लगभग 400 चमड़े की टेनरीज है तथा 1000 घरेलु इकाईयां है । जहा मुख्यतः भैस के चमड़े का कार्य होता है। यहाँ 1200 करोड़ रुपये का वार्षिक सामग्री चमड़ा तैयार किया जाता है। 6500 करोड़ रुपये के चमड़े का वार्षिक निर्यात किया जाता है तथा 1000 करोड़ रूपए का सालाना निर्यात घरेलु इकाईयों द्वारा किया जाता है ।
 
यहाँ सबसे जादा टेनरियां जाजमऊ में है जो की टेनरीयों का गढ़ के नाम से जानना जाता है । यहाँ की टेनरीयो का गन्दा पानी व कचरा गंगा नदी में छोड़ा जाता है जो की गंगा नदी के पानी को बहुत गन्दा करता है । आने वाले समय में चमड़ा उद्योग की ओर से 400 करोड़ रूपए का जलशोधक प्लांट का निर्माण प्रस्तावित है ।
 
== सन्दर्भ ==
3

सम्पादन