"गामा किरण": अवतरणों में अंतर

12 बाइट्स हटाए गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
छो (2405:204:C001:E0ED:0:0:D98:18A1 (Talk) के संपादनों को हटाकर Sanjeev bot के आखिर...)
No edit summary
{{नाभिकीय भौतिकी}}
 
'''गामा किरण''' ([[गामा]] लिखींलिखी जाती हैंहै) एक प्रकार का [[विद्युत चुम्बकीय विकिरण]] या [[फोटॉन]] हैं, जिनकी आवृत्ति [[अणु|उप-आण्विक कणों]] के आपसी टकराव से निकलतींनिकलती हैं, जैसे [[इलैक्ट्रॉन]] - [[पॉजी़ट्रॉन]] विनाश, या [[रेडियोधर्मिता|रेडियोधर्मी]] विनाश (''radioactive decay'')। इनको [[विद्युत चुम्बकीय विकिरण]] जिनका सर्वाधिक उर्जा स्तर एवं सर्वाधिक आवृत्ति, एवं न्यूनतम तरंग दैर्घ्य हो, तथा [[विद्युत चुम्बकीय वर्णक्रम]] के अंदर हों, से परिभाषित किया जाता है। यानि कि उच्चतम उर्जा के [[फोटॉन]]। अपने ऊँचे ऊर्जा स्तर के कारण, जैविक कोशिका द्वारा सोख लिए जाने पर अत्यंत नुकसान पहुँचा सकती हैं।
 
== गुणधर्म ==
 
==पदार्थ के साथ अनुक्रिया==
जब गामा किरणें किसी पदार्थ से होकर गुजरतींगुजरती हैं तो पदार्थ द्वारा इन किरणों को अवशोषित किये जाने की [[प्रायिकता]] उस पदार्थ की परत की मोटाई, पदार्थ के [[घनत्व]], तथा पदार्थ के अवशोषण-प्रतिच्छेद (absorption cross section) के समानुपाती होती है। पदार्थ के अन्दर x-दूरी पार करने के बाद गामा किरणों की तीव्रता निम्नलिखित सूत्र से दी जा सकती है-
 
:<math>I(x) = I_0 \cdot e ^{-\mu x}</math>
1,511

सम्पादन