"शेख़ अब्दुल्ला" के अवतरणों में अंतर

752 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
===मुख्यमंत्री===
इनके जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री के पद ग्रहण के पश्चात केन्द्र सरकार और शासन करने वाली [[भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस|कांग्रेस पार्टी]] ने समर्थन वापस ले लिया। जिसके कारण दुबारा चुनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई। चुनाव में भारी मतो से जीत के बाद शेख अब्दुल्ला फिर से मुख्यमंत्री बने। यह 1982 तक (इनके मौत तक) मुख्यमंत्री बने रहे। इनके मौत के बाद इनके सबसे बड़े बेटे [[फारूक अब्दुल्ला]] ने मुख्यमंत्री पद हेतु चुनाव लड़ा।
 
== साहित्य ==
इनके द्वारा रचित एक [[आत्मकथा]] ''[[आतिशे–चिनार]]'' के लिये उन्हें सन् १९८८ में [[साहित्य अकादमी पुरस्कार]] ([[साहित्य अकादमी पुरस्कार उर्दू|उर्दू]]) से मरणोपरांत सम्मानित किया गया।<ref name="sahitya">{{cite web | url=http://sahitya-akademi.gov.in/sahitya-akademi/awards/akademi%20samman_suchi_h.jsp | title=अकादमी पुरस्कार | publisher=साहित्य अकादमी | accessdate=11 सितंबर 2016}}</ref>
 
==सन्दर्भ==