"नारायण गुरु": अवतरणों में अंतर

49 बैट्स् नीकाले गए ,  4 वर्ष पहले
छो
2405:204:E685:E72:81DC:8390:44CA:6DCF (Talk) के संपादनों को हटाकर 14.139.155.66...
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2405:204:E685:E72:81DC:8390:44CA:6DCF (Talk) के संपादनों को हटाकर 14.139.155.66...)
 
== जीवनी ==
नारायण गुरु का जन्म दक्षिण [[केरल]] के एज़वा(कलार)जाति के एक साधारण परिवार में 1854 में हुआ था। भद्रा देवी के मंदिर के बगल में उनका घर था। एक धार्मिक माहौल उन्हें बचपन में ही मिल गया था। लेकिन एक संत ने उनके घर जन्म ले लिया है, इसका कोई अंदाज उनके माता-पिता को नहीं था। उन्हें नहीं पता था कि उनका बेटा एक दिन अलग तरह के मंदिरों को बनवाएगा। समाज को बदलने में भूमिका निभाएगा।
 
उस परम तत्व को पाने के बाद नारायण गुरु [[अरुविप्पुरम]] आ गये थे। उस समय वहां घना जंगल था। वह कुछ दिनों वहीं जंगल में एकांतवास में रहे। एक दिन एक गढ़रिये ने उन्हें देखा। उसीने बाद में लोगों को नारायण गुरु के बारे में बताया। परमेश्वरन पिल्लै उसका नाम था। वही उनका पहला शिष्य भी बना। धीरे-धीरे नारायण गुरु सिद्ध पुरुष के रूप में प्रसिद्ध होने लगे। लोग उनसे आशीर्वादके लिए आने लगे। तभी गुरुजी को एक मंदिर बनाने का विचार आया। नारायण गुरु एक ऐसा मंदिर बनाना चाहते थे, जिसमें किसी किस्म का कोई भेदभाव न हो। न धर्म का, न जाति का और न ही आदमी और औरत का।
47,590

सम्पादन