मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

15 बैट्स् नीकाले गए, 1 वर्ष पहले
छो
2405:204:A107:5B27:0:0:1F3:F8A5 (Talk) के संपादनों को हटाकर आर्यबॉट...
 
''(पुत्र! यदि तुम बहुत विद्वान नहीं बन पाते हो तो भी व्याकरण (अवश्य) पढ़ो ताकि 'स्वजन' 'श्वजन' (कुत्ता) न बने और 'सकल' (सम्पूर्ण) 'शकल' (टूटा हुआ) न बने तथा 'सकृत्' (किसी समय) 'शकृत्' (गोबर का घूरा) न बन जाय।)''
 
 
Vimal pathak
 
== संसार का सर्वप्रथम व्याकरण ==