"नरसिंह" के अवतरणों में अंतर

2,146 बैट्स् जोड़े गए ,  3 वर्ष पहले
नरसिंह मंदिर बनमनखी एवं माणिक्य स्तम्भ से संबंधित
(ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: मे → में (2))
(नरसिंह मंदिर बनमनखी एवं माणिक्य स्तम्भ से संबंधित)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
===हाटपिप्लिया===
नृसिंह मंदिर हाटपिप्लिया में भगवान नरसिंह कि ७.५ कि लो वजनी पाषाण प्रतिमा है जो कि हर वर्ष डोल ग्यारस पर्व पर भमोरी नदी पर 3 बार तेराई जाती है
 
'''<big>बनमनखी बिहार</big>'''
 
बिहार राज्य के पूर्णिया जिला के बनमनखी में सिकलीगढ़ धरहरा गांव हैं। बताया जाता है कि इसी गांव में '''भगवान नरसिंह''' अवतरित हुए थे और यही वो गांव है जहां भक्त प्रह्लाद की बुआ होलिका अपने भतीजे को गोद में लेकर आग में बैठी थी। मान्यता के मुताबिक यहीं से होलिकादहन की परंपरा की शुरुआत हुई थी।
 
ऐसी मान्यता है कि प्रह्लाद के पिता हिरण्यकश्यप का किला सिकलीगढ़ में था। गांव के बड़े बुजुर्गों की माने तो अपने परम भक्त प्रह्लाद की रक्षा के लिए खंभे से भगवान नरसिंह ने अवतार लिया था। मान्यता है कि उस खंभे का एक हिस्सा जिसे '''माणिक्य स्तंभ''' के नाम से जाना जाता है वो आज भी मौजूद है। इसी स्थान पर प्रह्लाद के पिता हिरण्यकश्यप का वध हुआ था। खास बात ये है कि माणिक्य स्तंभ 12 फीट मोटा है और करीब 65 डिग्री पर झुका हुआ है।
 
गीता प्रेस, गोरखपुर के कल्याण के 31 वें साल के तीर्थांक विशेषांक में भी सिकलीगढ धरहरा का जिक्र किया गया है।
 
== इन्हें भी देखें ==
बेनामी उपयोगकर्ता