"छीतस्वामी" के अवतरणों में अंतर

21 बैट्स् नीकाले गए ,  10 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो
छीतस्वामी गिरिधरन श्री विट्ठल, निरख नयन त्रय ताप नसावें ॥
 
{{अष्टछाप के कवि}}
[[श्रेणी:वल्लभ संप्रदाय]]
28,109

सम्पादन