"खरगोन ज़िला" के अवतरणों में अंतर

547 बैट्स् नीकाले गए ,  4 वर्ष पहले
छो
2405:204:E380:4AEB:0:0:199:C8A4 (Talk) के संपादनों को हटाकर 27.97.35.247 के आखिर...
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन
छो (2405:204:E380:4AEB:0:0:199:C8A4 (Talk) के संपादनों को हटाकर 27.97.35.247 के आखिर...)
== प्रशासनिक-भाग ==
प्रशासनिक दृष्टि से जिले को 5 अनुविभाग, 8 तहसील, 9 जनपद पंचायत (विकासखण्ड) तथा 1407 राजस्व ग्रामों में बांटा गया है। यह जिला एक आदिवासी जिला है जिसमें 600 ग्राम पंचायतें, 3 नगर पालिकाएं, 4 नगर पंचायतें तथा 7 कृषि उपज मण्डियां हैं। जिले के 2 मुख्यालय हैं - प्रशासन, पुलिस व अन्य सभी शासकीय कार्यालयों के लिये खरगोन तथा न्यायिक व्यवस्था के लिये मण्डलेश्वर। खरगोन, कसरावद, भीकनगांव, बड़वाह, सनावद, मण्डलेश्वर, महेश्वर तथा करहीमहेश्वर जिले के प्रमुख नगर हैं।
 
== खनिज व फसलें ==
जिले में लगभग 13779 छोटे तथा 14 मध्यम व बड़े उद्योग हैं। खरगोन, निमरानी, बड़वाह, पाडली तथा भीकनगांव में औद्योगिक क्षेत्र हैं। जिले में 1 अभियांत्रिकी महाविद्यालय, 2 पोलीटेक्निक महाविद्यालय तथा कई स्नातकोत्तर व स्नातक स्तर के महाविद्यालय एवं औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान हैं।
खरगोन जिले के नर्मदा नदी पर स्थित नगर मण्डलेश्वर शिक्षा के क्षेत्र बेहद तरक्की कर चूका है यहाँ १ सरकारी व तीन निजी महाविद्यालय है इसके अलावा फार्मेसी कॉलेज है एवं सरदार वल्लभ भाई पटेल के संचालकों द्वारा एक इंजीनियरिंग कॉलेज भी खुल चूका है। पूर्व में भी यह नगर शैक्षणिक रूप से जिले में अव्वल रहा है। नगर परिषद करही भी अब शिक्षा के क्षेत्र में जिले में अपनी अलग छभी बना रहा है, यहाँ Government ITI है, जो जिले में अव्वल है तथा यहाँ सबसे ज्यादा स्कूलों की संख्या है, जो करही को जिले में शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट बनाता है।
 
== पड़ोसी-जिले ==