मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

छो
2405:205:118B:286:0:0:330:88AD (Talk) के संपादनों को हटाकर [[User:2405:205:140F:7766:CD64:AEBA:8430:6924|2405:205:14...
=== पूर्व-संक्रियात्मक अवस्था ===
इस अवस्था में बालक स्वकेन्द्रित व स्वार्थी न होकर दूसरों के सम्पर्क से ज्ञान अर्जित करता है। अब वह खेल, अनुकरण, चित्र निर्माण तथा भाषा के माध्यम से वस्तुओं के संबंध में अपनी जानकारी अधिकाधिक बढ़ाता है। धीरे-धीरे वह प्रतीकों को ग्रहण करता है किन्तु किसी भी कार्य का क्या संबंध होता है तथा तार्किक चिन्तन के प्रति अनभिज्ञ रहते हैं।
इस अवस्था में अनुक्रमणशीलता पायी जाती हैहै।
आकार से सम्बंधित ज्ञान
 
=== स्थूल संक्रियात्मक अवस्था ===