"ब्रज" के अवतरणों में अंतर

20 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
छो
Ibdianajohns (Talk) के संपादनों को हटाकर चौधरी के आखिरी अवतरण को पूर्ववत...
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (Ibdianajohns (Talk) के संपादनों को हटाकर चौधरी के आखिरी अवतरण को पूर्ववत...)
{| class="infobox" cellpadding="2" cellspacing="2" style="width:250px; font-size:95%;"
|-
| colspan="2" style="margin-left:inherit; background:greenpink; text-align:center; font-size:medium;"|भारत का ऐतिहासिक धार्मिक स्थान<br>'''ब्रज'''
|- style="text-align:center;"
| colspan="2" | <div style="position:relative; margin:0; border-collapse:collapse; border=;"1" cellpadding="0">
|- style="vertical-align: top;"
| '''[[राज्य]]'''
| [[उत्तर प्रदेश]], [[हरियाणा]], [[राजस्थान]]
|- style="vertical-align: top;"
| '''[[भाषाएँ]]'''
कृष्ण उपासक सम्प्रदायों और ब्रजभाषा कवियों के कारण जब ब्रज संस्कृति और ब्रजभाषा का क्षेत्र विस्तृत हुआ तब ब्रज का आकार भी सुविस्तृत हो गया था। उस समय मथुरा नगर ही नहीं, बल्कि उससे दूर-दूर के भू-भाग, जो ब्रज संस्कृति और ब्रज-भाषा से प्रभावित थे, व्रज अन्तर्गत मान लिये गये थे। वर्तमान
 
काल में मथुरा नगर सहित मथुरा जिले का अधिकांश भाग तथा [[राजस्थान]] के डीग और [[कामवनकामबन]] का कुछ भाग, जहाँ से ब्रजयात्रा गुजरती है, ब्रज कहा जाता है। [[ब्रज संस्कृति]] और [[ब्रज भाषा]] का क्षेत्र और भी विस्तृत है।
 
उक्त समस्त भू-भाग रे प्राचीन नाम, मधुबन, शुरसेन, मधुरा, मधुपुरी, मथुरा और मथुरामंडल थे तथा आधुनिक नाम ब्रज या ब्रजमंडल हैं। यद्यपि इनके अर्थ-बोध और आकार-प्रकार में समय-समय पर अन्तर होता रहा है। इस भू-भाग की धार्मिक, राजनैतिक, ऐतिहासिक और संस्कृतिक परंपरा अत्यन्त गौरवपूर्ण रही है।<ref>http://tdil.mit.gov.in/coilnet/ignca/brij101.htm </ref>