"म्यान्मार" के अवतरणों में अंतर

96 बैट्स् नीकाले गए ,  3 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
}}
 
'''ब्रह्मदेश''', '''बर्मा''' या '''म्यन्माम्यांमार''' दक्षिण [[एशिया]] का एक देश है। इसका आधुनिक बर्मी नाम 'मयन्मा' ( မြန်မာ = म्रन्मा ) है। [[बर्मी भाषा]] में '''र''' का उच्चारण '''य''' किया जाता है अतः सही उच्चारण '''म्यन्मा''' है। इसका पुराना अंग्रेजीअंग्रेज़ी नाम '''बर्मा''' था जो यहाँ के सर्वाधिक मात्रा में आबाद जाति (नस्ल) बर्मी के नाम पर रखा गया था। इसके उत्तर में [[चीन]], पश्चिम में [[भारत]], [[बांग्लादेश]] एवंम् [[हिन्द महासागर]] तथा दक्षिण एवंम पूर्व की दिशा में [[इंडोनेशिया]] देश स्थित हैं। यह भारत एवम चीन के बीच एक रोधक राज्य का भी काम करता है। इसकी राजधानी [[नाएप्यीडॉ]] और सबसे बड़ा शहर देश की पूर्व राजधानी [[यंगून|यांगून]] है, जिसका पूर्व नाम [[रंगून]] था।
 
== नामकरण ==
{{main|ब्रह्मदेशम्यांमार के नाम}}
[[बर्मी भाषा]] में, ब्रह्मदेशम्यांमार को '''म्यन्मा''' ([[चित्र:Myanma.svg|ြမန်မာ|40px]]) या बमा ([[चित्र:Bama.svg|ဗမာ|27px]]) नाम से जाना जाता है।ब्रिटिश राज के बाद इस देश को [[अंग्रेजी]] में 'बर्मा' कहा जाने लगा। सन् १९८९ मे देश की सैनिक सरकार ने पुराने अंग्रेजी नामों को बदल कर पारंपरिक बर्मी नाम कर दिया। इस तरह ब्रह्मदेशम्यांमार को 'म्यन्मा' और पूर्व राजधानी और सबसे बड़े रंगून को [[यांगून]] नाम दिया गया।
 
== भूगोल ==
म्यान्मार [[दक्षिण पूर्व एशिया]] का सबसे बड़ा देश है, जिसका कुल क्षेत्रफ़ल ६,७८,५०० वर्ग किलोमीटर है। म्यान्मार विश्व का चॉलीसवां सबसे बड़ा देश है। इसकी उत्तर पश्चिमी सीमाएं भारत के [[मिज़ोरम]], [[नागालॅण्ड]], [[मणिपुर]], [[अरुणाचल प्रदेश]] और बांग्लादेश के [[चटगाँव उपक्षेत्र|चिटगॉव]] प्रांत को मिलती है। उत्तर मे देश की सबसे लंबी सीमा तिब्ब्त और चीन के उनान प्रांत के साथ है। म्यान्मार के दक्षिण-पूर्व मे [[लाओस]] ओर [[थाईलैंड]] देश है। म्यान्मार की तट रेखा (१,९३० किलोमिटर) देश के कुल सीमा का एक तिहाई है। [[बंगाल की खाड़ी]] और [[अंडमान सागर]] देश के दक्षिण पश्चि्म और दक्षिण में क्रमशः पड़ते है। उत्तर में [[हेंगडुआन शान]] पर्वत [[चीन]] के साथ सीमा बनाते है।
 
म्यान्मार में तीन पर्वत श्रृंखलाएं है जो कि [[हिमालय]] से शुरु होकर उत्तर से दक्षिण दिशा मे फ़ैली हुई है। इनका नाम है रखिने योमा, बागो योमा और शान पठार। यह श्रृंखला म्यान्मार को तीन नदी तंत्र मे बांटती है। इनका नाम है [[ऎयारवाडी नदी|ऎयारवाडी]], [[सालवीन नदी|सालवीन]] और [[सीतांग नदी|सीतांग]]। [[ऎयारवाडी नदी|ऎयारवाडी]] ब्रह्मदेशम्यांमार कि सबसे लंबी नदी है। इसकी लंबाई २,१७० किलोमीटर है। [[मरतबन की खाड़ी]] मे गिरने से पहले यह नदी म्यान्मार के सबसे उपजाऊ भूमि से हो कर गुजरती है। म्यान्मार की अधिकतर जनसंख्या इसी नदी की घाटी मे निवास करती है जो कि रखिने योमा और शान पठार के बीच स्थित है।
 
देश का अधिकतम भाग [[कर्क रेखा]] और [[भूमध्य रेखा]] के बीच मे स्थित है। ब्रह्मदेशम्यांमार एशिया महाद्वीप के मानसून क्षेत्र मे स्थित है, सालाना यहॉ के तटीय क्षेत्रों में ५००० मिलीमीटर, डेल्टा भाग में लगभग २५०० मिलीमीटर और मध्य म्यान्मार के शुष्क क्षेत्रों में १००० मिलीमीट वर्षा होती है।
 
== धरातल ==
* 2. '''पूर्व का शान उच्च प्रदेश''' - यह लगभग 3,000 फुट तक ऊँचा एक पठार है जो दक्षिण में टेनैसरिम योमा तक फैला है।
 
* 3. '''मध्य ब्रह्मदेश''' म्यांमार - यह देश का मुख्य कृषिप्रदेश है जो पूर्व में सैलवीन तथा पश्चिम में इरावदी तथा इसकी सहायक चिंद्विन आदि नदियों से घिरा है।
 
* 4. '''दक्षिण में इरावदी तथा सितांग नदियों का डेल्टा प्रदेश''' - इरावदी तथा सितांग की निम्न घाटी काफी उपजाऊ है। डेल्टा प्रदेश लगभग 10,000 वर्ग मील में फैला है। यह विश्व के बड़े धान उत्पादक क्षेत्रों में से एक है तथा यहाँ कई प्रसिद्ध बंदरगाह भी स्थित हैं। इरावदी नदी मैदान के पश्चिमी भाग से बहती हुई बंगाल की खाड़ी में गिरती है।
 
== जलवायु ==
यहाँ की जलवायु उष्णकटिबंधीय है जिसमें तीन ऋतुएँ होती हैं : प्रथम, वर्षा ऋतु, जो मध्य मई से मध्य अक्टूबर तक रहती है; द्वितीय, ग्रीष्म ऋतु, जो अप्रैल-मई से अक्टूबर या नवंबर तक रहती है। तृतीय, जाड़े की ऋतु, जो दिसंबर से मार्च तक रहती है। मानसून के मौसम में ऊपरी म्यान्मार में 200 इंच था दक्षिण में स्थित रंगून में 100 इंच तक वर्षा होती है। मध्य के शुष्क भाग में 25 से 35 इंच वर्षा होती है। निम्न ब्रह्मदेशम्यांमार का जाड़े का ताप 15.5 डिग्री सें. तथा गरमी का ताप 38 डिग्री सें. तक रहता है। मध्य म्यान्मार में गरमी का ताप निम्न ब्रह्मदेशम्यांमार के जाड़े के ताप से अधिक तथा गरमी के ताप से कम हो जाता है।
 
== राज्य और मण्डल ==
* [[शान राज्य]]
 
== ब्रह्मदेशम्यांमार का इतिहास ==
 
{{मुख्य|ब्रह्मदेशम्यांमार का इतिहास}}
 
* '''जनवरी, 1948''' - ब्रह्मदेशम्यांमार को आजादी मिली।
 
* '''सितंबर, 1987''' - मुद्रा के अवमूल्यन के चलते हजारों लोगों की बचत स्वाहा हो गई जिसके चलते सरकार विरोधी दंगे भड़के।
 
== यह भी देखें ==
* [[बर्मी भाषा|म्यांमार भाषा]]
* [[बर्मी लिपि|म्यांमार लिपि]]
* [[बमर लोग]]
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [http://panchjanya.com//Encyc/2014/12/20/भारतीय-संस्कृति-में-रचा-बसा-म्यांमार.aspx भारतीय संस्कृति में रचा-बसा म्यांमार] (पाञ्चजन्य)
* [http://commons.wikimedia.org/wiki/Atlas_of_Burma विकिपीडिया कामंस पर म्यान्मार के मानचित्र संग्रह]
* [http://kosh.khsindia.org/hindi/हिंदी_विश्व_भारती_छात्र_पत्रिका-2011_पृ-26 म्याँमार देश (बर्मा) के प्रमुख सांस्कृतिक त्यौहार]
* [https://docs.google.com/open?id=0B06JOlm5x83YODY1OTg5NGUtZTY5Mi00MDE1LTg2MmYtMjQ0MzA5MmRkYTA3 ब्रह्मदेशम्यांमार लिपि से देवनागरी लिपि परिवर्तक] (डाउनलोड करें और किसी भी ब्राउजर में चलाएँ)
* [https://wol.jw.org/hi/wol/d/r108/lp-hi/102001887 “सुनहरा देश” म्यानमार]