"दक्ष प्रजापति" के अवतरणों में अंतर

64 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
→‎सती का आत्मदाह: शीर्षक बदलकर ' सती का जन्म, विवाह तथा दक्ष-शिव-वैमनस्य' किया।
(→‎सती का आत्मदाह: प्रामाणिक संदर्भ जोड़े। भाषिक त्रुटियाँ सुधारी तथा अवांछित अंश हटा सही अंशजो...)
(→‎सती का आत्मदाह: शीर्षक बदलकर ' सती का जन्म, विवाह तथा दक्ष-शिव-वैमनस्य' किया।)
दक्ष प्रजापति ने एक विशाल यज्ञ का आयोजन किया था जिसमें द्वेषवश उन्होंने अपने जामाता भगवान् [[शंकर]] और अपनी पुत्री [[सती]] को निमन्त्रित नहीं किया। शंकर जी के समझाने के बाद भी सती अपने पिता के उस यज्ञ में बिना बुलाये ही चली गयी। यज्ञस्थल में दक्ष प्रजापति ने सती और शंकर जी का घोर निरादर किया। अपमान न सह पाने के कारण सती ने तत्काल यज्ञस्थल में ही योगाग्नि से स्वयं को भस्म कर दिया। सती की मृत्यु का समाचार पाकर भगवान् शंकर ने [[वीरभद्र]] के द्वारा उस यज्ञ का विध्वंस करा दिया। वीरभद्र ने दक्ष प्रजापति का सिर भी काट डाला। बाद में ब्रह्मा जी की प्रार्थना करने पर भगवान् शंकर ने दक्ष प्रजापति को उसके सिर के बदले में बकरे का सिर प्रदान कर उसके यज्ञ को सम्पन्न करवाया।<ref>श्रीमद्भागवतमहापुराण, पूर्ववत्-स्कन्ध-4, अध्याय-3से7.</ref>
 
== सती का आत्मदाहजन्म, विवाह तथा दक्ष-शिव-वैमनस्य ==
 
दक्ष के प्रजापति बनने के बाद ब्रह्मा ने उसे एक काम सौंपा जिसके अंतर्गत शिव और शक्ति का मिलाप करवाना था। उस समय शिव तथा शक्ति दोनों अलग थे। इसीलिये ब्रह्मा जी ने दक्ष से कहा कि वे तप करके शक्ति माता (परमा पूर्णा प्रकृति जगदम्बिका) को प्रसन्न करें तथा पुत्री रूप में प्राप्त करें।<ref>देवीपुराण [महाभागवत]-शक्तिपीठांक (सटीक), गीताप्रेस गोरखपुर, 4-4से6.</ref>
तपस्या के उपरांत माता शक्ति ने दक्ष से कहा,"मैं आपकी पुत्री के रूप में जन्म लेकर शम्भु की भार्या बनूँगी। जब आप की तपस्या का पुण्य क्षीण हो जाएगा और आपके द्वारा मेरा अनादर होगा तब मैं अपनी माया से जगत् को विमोहित करके अपने धाम चली जाऊँगी।<ref>देवीपुराण [महाभागवत]-शक्तिपीठांक (सटीक), गीताप्रेस गोरखपुर, 4-16से20.</ref> इस प्रकार