"कश्मीर का इतिहास" के अवतरणों में अंतर

16 बैट्स् नीकाले गए ,  3 वर्ष पहले
ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: युध्द → युद्ध (2)
(HotCat द्वारा -श्र:कश्मीर; -श्र:जम्मू और कश्मीर; ±श्र:भारत पाक विवाद→[[श्र:भारत पाकिस्तान विवा...)
(ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: युध्द → युद्ध (2))
 
== इतिहास और सभ्यता ==
समय के साथ धार्मिक और सांस्कृतिक प्रभावों का संश्लेषण हुआ, जिससे यहां के तीन मुख्य धर्म स्थापित हुए - हिन्दू, बौद्ध और इस्लाम। इनके अलावा सिख धर्म के अनुयायी भी बहुत मिलते हैं।
 
=== प्राचीन इतिहास ===
*[[ललितादित्य]]
*[[जयपीड]]
*[[अवन्तिवर्मन]] -- ८५५—८५५/६-८८३
*[[शंकरवर्मन राजा]] -- ८८३—८८३-९०२
*[[गोपालवर्मन]]-- ९०२—९०२-९०४
*[[सुगन्धा]]--९०४—९०४-९०६
*[[पार्थ राजा]]- ९०६-९२१ + ९३१-९३५
*[[चक्रवर्मन]]- ९३२-९३३ + ९३५-९३७
 
 
*[[यशस्कर]] -- ९३९—९३९-९४८
*[[संग्रामदेव]] -- ९४८—९४८-९४९
*[[पर्वगुप्त]] -- ९४९—९४९-९५०
*[[क्षेमगुप्त]]-- ९५०—९५०-९५८
*[[अभिमन्यु राजा]] -- ९५८—९५८-९७२
*[[नन्दिगुप्त]]-- ९७२—९७२-९७३
*[[त्रिभुवन]] -- ९७३—९७३-९७५
*[[भीमगुप्त]] -- ९७५—९७५-९८०
*[[दिद्दा]]-- ९८०—९८०/१-१००३
*[[संग्रामराज]] -- १००३—१००३-१०२८
*[[अनन्त राजा]] -- १०२८—१०२८-१०६३
*[[कलश राजा]] -- १०६३—१०६३-१०८९
*[[उत्कर्ष]]-- १०८९—१०८९
*[[हर्ष देव]] -- १०८९—१०८९-११०१
*[[उच्चल]]
*[[सल्हण]]
*[[भिक्षाचर]]
*[[जयसिँह]]
*[[राजदेव]] -- १२१६—१२१६-१२४०
*[[सहदेव_कश्मीरीसहदेव कश्मीरी राजा]] -- १३०५—१३०५-१३२४
*[[कोट रानी]] -- १३२४—१३२४-१३39
 
=== मध्य काल ===
*[[ज़ैनुल-आब्दीन]] -- १४२०—१४२०-१४७०
 
सन [[१५८९]] में यहां मुगल का राज हुआ। यह अकबर का शासन काल था। मुगल साम्राज्य के विखंडन के बाद यहां पठानों का कब्जा हुआ। यह काल यहां का काला युग कहलाता है।
* भारत और पाकिस्तान के लिए एक तीन सदस्यी संयुक्त राष्ट्र आयोग (यूएनसीआईपी) [[20 जनवरी]], [[1948]] को गठित किया गया, जो कि विवादों को देखे। [[21 अप्रैल]], [[1948]] को इसकी सदस्यता का प्रश्न उठाया गया।
* तब तक कश्मीर में आपातकालीन प्रशासन बैठाया गया, जिसमें, [[5 मार्च]], [[1948]] को शेख अब्दुल्ला के नेतृत्व में अंतरिम सरकार द्वारा स्थान लिया गया।
* [[13 अगस्त]], [[1948]] को यूएनसीआईपी ने संकल्प पारित किया जिसमें युध्दयुद्ध विराम घोषित हुआ, पाकिस्तानी सेना और सभी बाहरी लोगों की वापसी के अनुसरण में भारतीय बलों की कमी करने को कहा गया। जम्मू और कश्मीर की भावी स्थिति का फैसला 'लोगों की इच्छा' के अनुसार करना तय हुआ। संपूर्ण जम्मू और कश्मीर से पाकिस्तान सेना की वापसी, व जनमत की शर्त के प्रस्ताव को माना गया, जो- कभी नहीं हुआ।
* संयुक्त राष्ट्र के तत्वावधान के अंतर्गत युध्द-विराम की घोषणा की गई। यूएनसीआईपी संकल्प - [[5 जनवरी]], [[1949]]। फिर [[13 अगस्त]], [[1948]] को संकल्प की पुनरावृति की गई। महासचिव द्वारा जनमत प्रशासक की नियुक्ति की जानी तय हुई।
=== निर्माणात्मक वर्ष ===
* राज्य विधान सभा के लिए [[मार्च]], [[1967]] में तीसरे आम चुनाव हुए, जिसमें कांग्रेस सरकार बनी
* [[फरवरी]], [[1972]] में चौथे आम चुनाव हुए जिनमें पहली बार जमात-ए-इस्लामी ने भाग लिया व 5 सीटें जीती। इन चुनावों में भी कांग्रेस सरकार बनी।
* भारत और पाकिस्तान के बीच [[3 जुलाई]], [[1972]] को ऐतिहासिक 'शिमला समझौता हुआ, जिसमें कश्मीर पर सभी पिछली उद्धोषणाएँ समाप्त की गईं, जम्मू और कश्मीर से संबंधित सारे मुद्दे द्विपक्षीय रूप से निपटाए गए, व - युध्दयुद्ध विराम रेखा को नियंत्रण रेखा में बदला गया।
* [[फरवरी]], [[1975]] को कश्मीर समझौता समाप्त माना गया, व भारत के प्रधानमंत्री के अनुसार 'समय पीछे नहीं जा सकता'; तथा कश्मीरी नेतृत्व के अनुसार- 'जम्मू और कश्मीर राज्य का भारत में अधिमिलन कोई मामला नहीं' कहा गया।
* [[जुलाई]], [[1975]] में शेख अब्दुल्ला मुख्य मंत्री बने, जनमत फ्रंट स्थापित और नेशनल कांफ्रेंस के साथ विलय किया गया।