"सम्भल": अवतरणों में अंतर

6 बाइट्स जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
→‎top: ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: मे → में (2)
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
(→‎top: ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: मे → में (2))
{{विकिफ़ाइ|date=मई 2016}}
{{स्रोतहीन|date=मई 2016}}
'''सम्भल''', भारतीय राज्य [[उत्तर प्रदेश]] के [[मुरादाबाद]] मण्डल में स्थित एक जिला है। सतयुग में इस स्थान का नाम सत्यव्रत था, त्रेता मेमें महदगिरि, द्वापर में पिंगल और कलयुग में सम्भल है। इसमे ६८ तीर्थ और १९ कूप हैं यहां एक अति विशाल प्राचीन मन्दिर है, इसके अतिरिक्त तीन मुख्य शिवलिंग है, पूर्व में चन्द्रशेखर, उत्तर मेमें भुबनेश्वर और दक्षिण में सम्भलेश्वर हैं। प्रतिवर्ष कार्तिक शुक्ल चतुर्थी और पंचमी को यहाँ मेला लगता है और यात्री इसकी परिक्रमा करते हैं। सम्भल में रेलवे स्टेशन पर मुग़ल सम्राट बाबर द्वारा बनवाई गई "बाबरी मस्जिद" भी है। यह कृषि उत्पादों का व्यावसायिक केंद्र भी है। टॉलमी द्वारा उल्लिखित संबकल को संभल से समीकृत किया जाता है।
यहाँ ऐसी पौराणिक मान्यता है कि कलियुग में कल्कि अवतार शंबल नामक ग्राम में होगा।
लोक मान्यता में सम्भल को ही शंबल माना जाता है।