"सौरव गांगुली" के अवतरणों में अंतर

22 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
→‎top: ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: आये. → आये। , की. → की। , की| → की। , किया | → किया। , गया. → गया। (2), गए| → गए।...
छो (बॉट: भारतीय टेस्ट क्रिकेटर की जगह भारतीय टेस्ट क्रिकेट खिलाड़ी जोड़ रहा है)
(→‎top: ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: आये. → आये। , की. → की। , की| → की। , किया | → किया। , गया. → गया। (2), गए| → गए।...)
| source = http://www.espncricinfo.com/ci/content/player/28779.html क्रिकइन्फो
}}
'''सौरव चंडीदास गांगुली''' (जन्म ८ जुलाई १९७२) [[भारत]] [[क्रिकेट]] टीम के पूर्व कप्तान है। वे भारत के सबसे सफल कप्तानों में से एक हैं |हैं। बंगाल के एक संभ्रांत परिवार में जन्मे सौरव गांगुली अपने भाई स्नेहाशीष गांगुली के द्वारा क्रिकेट की दुनिया में लाए गए|गए। अपने करियर की शुरुआत उन्होंने स्कूल की और राज्य स्तरीय टीम में खेलते हुए की|की। वर्तमान में वह एक दिवसीय मैच में सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाडियों में ५ वें स्थान पर हैं और १०,००० बनाने वाले ५ वें खिलाडी और [[सचिन तेंदुलकर]] के बाद दूसरे भारतीय खिलाडी हैं। क्रिकेट पत्रिका Wisden के अनुसार वे अब तक के सर्वश्रेष्ठ एक दिवसीय बल्लेबाजों में ६ठे स्थान पर हैं |हैं।
 
कई क्षेत्रीय टूर्नामेंटों (जैसे रणजी ट्राफी, दलीप ट्राफी आदि) में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद गांगुली को राष्ट्रीय टीम में इंग्लैंड के खिलाफ खेलने का अवसर प्राप्त हुआ। उन्होंने पहले टेस्ट में १३१ रन बनाकर टीम में अपनी जगह बना कर ली.ली। लगातार [[श्री लंका]], [[पाकिस्तान]] और [[ऑस्ट्रेलिया]] के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन करने और कई मैन ऑफ द मैच ख़िताब जीतने के बाद के बाद टीम में उनकी जगह सुनिश्चित हो गयी। १९९९ क्रिकेट विश्व कप में उन्होंने [[राहुल द्रविड़]] के साथ ३१८ रन के साझेदारी की जो की आज भी विश्व कप इतिहास में सर्वाधिक है |है।
 
सन २००० में टीम के अन्य सदस्यों के मैच फिक्सिंग के कांड के कारण और के खराब स्वास्थ्य तात्कालिक कप्तान [[सचिन तेंदुलकर]] ने कप्तानी त्याग दी, जिसके फलस्वरूप गांगुली को कप्तान बनाया गया.गया। जल्द ही गांगुली को काउंटी क्रिकेट में durham की ओर से खराब प्रदर्शन और २००२ में नेटवेस्ट फायनल में शर्ट उतारने के कारण मीडिया में आलोचना का सामना करना पड़ा | सौरव ने २००३ विश्व कप में भारत का प्रतिनिधित्व किया और भारत विश्व कप फायनल में [[ऑस्ट्रेलिया]] से हरा. उसी वर्ष बाद में खराब प्रदर्शन के कारण सौरव गांगुली को टीम से निकला गया.गया। सन २००४ में इन्हें [[पद्मश्री]] से सम्मानित किया गया जो की भारत के सर्वश्रेष्ठ पुरस्कारों में से है। २००६ में सौरव गांगुली की राष्ट्रीय टीम में वापसी हुई और उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन किया। इसी समय वे भारत के कोच [[ग्रेग चैपल]] के साथ विवादों में आये.आये। गांगुली पुनः टीम से निकाले गए लेकिन २००७ क्रिकेट विश्व कप में खेलने के लिए चयनित हुए |
 
२००८ में सौरव इंडियन प्रेमिएर लीग की टीम [[कोलकाता नाईट राइडर्स]] के कप्तान बनाये गए |गए। इसी वर्ष [[ऑस्ट्रेलिया]] के खिलाफ एक घरेलु सीरीस के बाद गांगुली ने क्रिकेट से त्याग की घोषणा की.की। इसके पश्चात गांगुली [[बंगाल]] की टीम से खेलते रहे और बंगाल के क्रिकेट संघ की क्रिकेट विकास समिति के अध्यक्ष बनाये गए |गए। बांये हाथ के बल्लेबाज सौरव गांगुली एक सफल एक दिवसीय खिलाडी के रूप में जाने जाते हैं इन्होने ने एक दिविसयी मैचों में ११००० से ज्यादा रन बनाये.बनाये। ये भारत के सबसे सफल टेस्ट कप्तानों में से एक हैं जिन्होंने अपनी कप्तानी में टीम को ४९ में से २१ मैचों में सफलता दिखाई | एक उग्र कप्तान के रूप में मशहूर गांगुली ने कई नए खिलाडियों को अपनी कप्तानी के समय खेलने का अवसर प्रदान किया |किया।
 
बंगाल क्रिकेट संघ ने जुलाई २०१४ में सौरव गांगुली को खेल प्रशासक के रूप में नियुक्त किया।<ref>{{cite news|title=सौरव गांगुली ने क्रिकेट प्रशासक के रूप में शुरू की दूसरी पारी |url=http://www.patrika.com/news/sourav-ganguly-begins-new-innings-as-cricket-administrator/1020380|work=पत्रिका समाचार समूह |date=२७ जुलाई २०१४|accessdate=२७ जुलाई २०१४}}</ref>