"सदस्य:Maruvadakalyani/प्रयोगपृष्ठ" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
No edit summary
श्रीलंका का गृह युद्ध जो २३ जुलाई, १९८३ में शुरू हुआ था, वो एशिया में सबसे लम्बे समय तक चले गृह युद में से एक है। श्रीलंका सरकार और लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम ( एलटीटीइ) के बीच संघर्ष लगभग तीन दशकों तक चला था। l एलटीटीइ अधिकतर तमिल टाइगर्स के रूप में जाने जाते है। एलटीटीइ श्रीलंका द्वीप के तमिल अल्पसंख्यक के लिए एक स्वतंत्र राज्य चाहता था। एक साल के भयंकर सैन्य आक्रमण के बाद, श्रीलंका सरकार ने मई २००९ में दावा किया था कि उन्होंने अलगाववादी समूह (एनवाईटी) को हरा दिया है। सरकार ने यह भी प्रसारण किया की उन्होने एनवाईटी के नेता वेलुपिल्लई प्रभाकरन को मार दिया है। श्रीलंका के स्वतंत्रता के बाद बहुसंख्यक सिंहली और अल्पसंख्यक तमिलों के बीच जातीय संघर्ष के कारण देश त्रस्त होता गया। विशेषज्ञों का कहना है कि स्थायी शांति के लिए सरकार को एक राजनीतिक हल निकालना होगा। एलटीटीइ को कई देशों ने जैसे यूरोपीय संघ, कनाडा, संयुक्त राज्य अमेरिका, भारत और ऑस्ट्रेलिया ने आंतकवादी संघठन घोषित किया है। इस गृह युद्ध में करीब ७० हजार लोगो की हत्या हुई थी। निगरानी दल ने एलटीटीइ और श्रीलंका सैन्य समूह पर मानव अधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाया था। इस आरोप में अपहरण, जबरन वसूली और बाल सैनिकों के इस्तेमाल शामिल थे। १९४८ में जब श्रीलंका को ब्रिटिश साम्राज्य से स्वतंत्रता मिली थी, तबसे हि श्रीलंका जातीय संघर्ष में फंस गया था। १९७२ में सिंहली ने सीलोन से देश का नाम बदलकर श्रीलंका रख दिया और बौद्ध धर्म को राष्ट्र का प्राथमिक धर्म बनाया था। २००१ कि एक जनगणना के मुताबिक श्रीलंका की मुख्य जातीय आबादी में सिंहली (८२ प्रतिशत), तमिल (९.४ प्रतिशत) और श्रीलंका मूर (७.९ प्रतिशत) है। १९७६ में जातीय तनाव के बढ़ने पर, एलटीटीइ का गठन वेलुपिल्लई प्रभाकरन के नेतृवत में किया था। एलटीटीइ ने उत्तर और पूर्वी श्रीलंका में एक तमिल मातृभूमि का आंदोलन शुरू किया, जहाँ अधिकांश तमिल लोग निवास करते थे। १९८३ में एलटीटीइ ने एक सेना के काफिले पर हमला किया जिसमें तेरह सैनिकों की हत्या और २,५०० तमिलों की मृत्यु हो गयी। भारत ने १९८७ में शांति संगठित बल को श्रीलंका में तैनात किया था, जिसके कारण तीन साल बाद जातीय तनाव में हिंसा और बढ़ गया था। जातीय संघर्ष के दौरान, एलटीटीइ एक भयंकर आतंकवादी संगठन के रूप में उभरा।
[[चित्र:एना गॉर्डोन कीओन.gif|अंगूठाकार|एना गॉर्डोन कीओन]]
==सन्दर्भ==
एना गॉर्डोन कीओन ([[१८९९]]-[[१९५७]]) एक [[अंग्रेजी]] [[लेखिका]] और क़वियित्री थी।
==जीवन==
उन्होंने [[लेखक]] और [[चिकित्सक]] डॉ फिलिप गोसे (१८७९-१९५९) से शादी की, जो सम्मानित एडमंड गोसे के बेटे थे। जब एना गॉर्डोन कीओन की मृत्यु हो गयी, तब उनके पती ने अपनी पत्नि के स्मृति में लीड्स विश्वविद्यालय के लिए साहित्य का एक बड़ा संग्रह प्रस्तुत किया, जिसे क्वीन कलेक्शन (जो बड़े ब्रोथेरटन कलेक्शन के भीतर है) के रूप में जाना जाता है। उनके कामों में, शायद सबसे प्रसिद्ध उनकी किताब 'द कैट हु सॉ गॉड '([[१९१२]]) है।<ref>http://furrowedmiddlebrow.blogspot.in/2013/12/anna-gordon-keown-cat-who-saw-god-1932.html</ref> यह किताब एक हास्यप्रद [[नाटक]] है, जो एक बिल्ली के बारे मे है। यह बिल्ली रोमन [[सम्राट]] [[नीरो]] के पास अधीन है जो पुराने [[अंग्रेजी]] अविवाहिता औरत के साथ बसने का फैसला करता है. १४ नवंबर १९३२ को शुरूआती सप्ताह में, टाइम ने "सप्ताह की पुस्तकों" में से एक के रूप में इसे सूचीबद्ध करते हुए इसे "अंग्रेजी तरीके में मनोरंजक किताब" के रूप में सूचीबद्ध किया। उनके सबसे प्रसिद्ध कामों में से उनका विश्व युद्ध १ के गाथा भी बहुत प्रसिद्ध है, जो उन्होंने अपने जवानी में लिखा था। उस लेख का नाम है 'रिपोर्टेड मिसिंग' जो ब्रिटिश स्कूलों में ओसीआर और जीसिएसइ अंग्रेजी साहित्य पाठ्य्क्रम के भाग के रूप में अध्ययन किया जाता है। <ref>https://allpoetry.com/Anna-Gordon-Keown</ref>
===पती===
गोसे का जन्म १८१० में वर्सेस्टर में हुआ। उन्होंने अपने बचपन को ज्यादातर पूले, डोरसेट में बिताया, जहां उनकी चाची, सुसान बेल ने उन्हें जीवनविज्ञान से परिचय करवाया था। फिलिप हेनरी गोसे (६ अप्रैल १८१० - २३ अगस्त १८८८), अपने दोस्तों के समक्ष हेनरी नाम से जाने जाते थे। वे समुद्री जल के मछलीघर के [[आविष्कारक]], और समुद्री के अध्ययन में एक श्रमसाध्य प्रर्वतक थे। गोसे ओम्फालोस के लेखक भी थे, जो कि [[बाइबिल]] के सृजन के अनुसार चार्ल्स लियेल द्वारा अनुशंसित [[भूवैज्ञानिक]] आयु के सामंजस्य स्थापित करने का एक प्रयास था। उनकी मृत्यु के बाद, गोसे को अपने बेटे, कवि और समीक्षक एडमंड गोसे द्वारा लिखित एक [[संस्मरण]] पिता और पुत्र (१९०७) में असंगत [[धार्मिक]] विचारों के एक निरंकुश पिता के रूप में चित्रित किया गया था।
==काम==
उनकी कविता 'रिपोर्टेड मिसिंग' बहुत ही प्रसिद्ध कविता है। <ref>https://allpoetry.com/poem/8611053-Reported-Missing-by-Anna-Gordon-Keown</ref> यह कविता इंकार के विषय मेऺ लिखी गयी है: पहली और आखिरी पंक्ति दोनों यह स्वीकार करने से इनकार करते हैं कि जो आदमी हमेशा हस्ते रहता था, उसकी मृत्यु कैसे हो सकती है। उनकी याद दिलाने वाली हंसी उनके वर्तमान हंसी से आठवी पंक्ति में दोहराई जाती है, जैसे कि श्रोताओं को न केवल समझाया जा रहा है, बल्कि खुद कविता की [[वक्ता]] भी समझने कि कोशिश कर रही है कि हसने के कितने सारे वजह है इस दुनिया मे जिसे कई बार हम इन्कार कर देते है। उसके दिल कि धड़कन और जो [[फूल]] उसके कमरे में इकट्ठे हुए, तेजी से बढ़ते गर्मियों में पानी के झरने की प्रचुरता को उसके चारों ओर के जीवन शक्ति के प्रमाण के रूप में रखा गया है। वह अपने आप को शोक करने की इजाजत नहीं दे सकती: उसकी यादें और [[आशा]] उसे जीवित रखती है, दिन रात के उदासी के बीच कविता लिखने वाला आधी-अधूरी [[आस]] में जीता रहता है। सरल भाषा में एना गॉर्डोन कीओन अपनी [[कविता]] पेश करती है और कई दिलो को छू लेती है।
==देहांत==
[[१९५७]] मे प्रसिद्ध कवियत्री का देहांत हो गया। उस दिन अंग्रेजी [[साहित्य]] ने अपना सबसे बड़ा सितारा खोया था।
236

सम्पादन