"सौम" के अवतरणों में अंतर

247 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
kdksd
(kdksd)
{{DISPLAYTITLE:रोज़ा}}
[[File:Fasting.JPG|250px|thumb|right|मस्जिद मे इफ़्तारी करते हुये।]]
'''सौम''' एक({{lang|ar|صوم}}) अरबीऔर शब्दबहुवचन है। (बहुवचन '''सियाम''' ({{lang|ar|صيام}}) अरबी भाषा के शब्द हैं। उपवास को अरबी में "सौम" कहते हैं। [[रमज़ान]] के पवित्र मासमाह में रखे जाने वाले उपवास ही "सौम" हैं। उर्दू और फ़ारसी भाषा में सौम को "'''रोज़ा'''" कहते हैं।
 
इस्लाम के पाँच मूलस्थंबों में से एक ''सौम'' है।
 
==नाम==
 
==क़ुर'आन में सौम==
क़ुरान में सौम के बारे में यूं प्रकटित होत है: يَا أَيُّهَا ٱلَّذِينَ آمَنُواْ كُتِبَ عَلَيْكُمُ ٱلصِّيَامُ كَمَا كُتِبَ عَلَى ٱلَّذِينَ مِن قَبْلِكُمْ لَعَلَّكُمْ تَتَّقُونَ
يَا أَيُّهَا ٱلَّذِينَ آمَنُواْ كُتِبَ عَلَيْكُمُ ٱلصِّيَامُ كَمَا كُتِبَ عَلَى ٱلَّذِينَ مِن قَبْلِكُمْ لَعَلَّكُمْ تَتَّقُونَ
*{{Quote|"अय विश्वासियो! तुम को उपवास प्रकटित किया जाता है जैसे तुम से पहले वालों पर प्रकटित हुवा था, इस लिये तुम निग्रह रहो।"|क़ुरान, सूरह २, (अल-बक़रा) [[आयत]] 183<ref>{{cite quran|2|183|s=ns}}</ref>}}
 
[[श्रेणी:इस्लाम के पाँच मूल स्तंभ]]
 
__सूचीबद्ध__
==बाहरी कड़ियां==
[[श्रेणी:इस्लाम]]
*
[[श्रेणी:फ़िक़्ह्|फ़िक़्ह]]
[[श्रेणी:क़ुरआन]]
बेनामी उपयोगकर्ता