"सौम" के अवतरणों में अंतर

108 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(kdksd)
[[File:Fasting.JPG|292x292px|thumb|right|मस्जिद मे इफ़्तारी करते हुये।]]{{DISPLAYTITLE:रोज़ा}}
[[File:Fasting.JPG|250px|thumb|right|मस्जिद मे इफ़्तारी करते हुये।]]
'''सौम''' ({{lang|ar|صوم}}) और बहुवचन '''सियाम''' ({{lang|ar|صيام}}) अरबी भाषा के शब्द हैं। उपवास को अरबी में "सौम" कहते हैं। [[रमज़ान]] के पवित्र माह में रखे जाने वाले उपवास ही "सौम" हैं। उर्दू और फ़ारसी भाषा में सौम को "'''रोज़ा'''" कहते हैं।
 
 
==नाम==
जैसे के सौम अरबी भाशा का शब्द है। अरबी देशों में इसको सौम के नाम से ही जाना जाता है। लैकिन फ़ारसी भाशा के असर रुसूख रखने वाले देश जैसे, तुर्की, ईरान, पाकिस्तान, भारत, बंग्लादेश, में इसे '<nowiki/>'''''रोज़ा''' '<nowiki/>'' के नाम से जाना जाता है। मलेशिया, सिंगपूर, ब्रूनै जैसे देशों में इसे ''पुआसा'' कहते हैं, इस शब्द का मूल संस्कृत शब्द '<nowiki/>''उपवास''<nowiki/>' है।
 
==सौम ({{फ़िक़्ह्|रोज़ा) और रमजान==}}
 
==सौम (रोज़ा) और रमज़ान==
रमजान मास को अरबी में माह-ए-सियाम भी कहते हैं [[रमजान]] का महीना कभी २९ दिन का तो कभी ३० दिन का होता है। इस महीने में उपवास रखते हैं।
 
==रौज़ेरोज़े का तरीक़ा==
 
* सहरी : उपवास के दिन सूर्योदय से पहले कुछ खालेते हैं जिसे सहरी कहते हैं।
*{{Quote|"अय विश्वासियो! तुम को उपवास प्रकटित किया जाता है जैसे तुम से पहले वालों पर प्रकटित हुवा था, इस लिये तुम निग्रह रहो।"|क़ुरान, सूरह २, (अल-बक़रा) [[आयत]] 183<ref>{{cite quran|2|183|s=ns}}</ref>}}
 
==कुरानक़ुर'आन में सौम के प्रकार ==
# आहार का सौम (सौम उत त'आम).<ref>{{cite quran|2|187|s=ns}}</ref>
# धन का सौम (सौम उल माल).<ref>{{cite quran|2|188|s=ns}}</ref>
बेनामी उपयोगकर्ता