"ख़ालसा" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् जोड़े गए ,  3 वर्ष पहले
छो
→‎खालसा पंथ साजने का चित्र: clean up, replaced: कारन → कारण AWB के साथ
(ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: की | → की। (2), गया | → गया। , थे | → थे। (2), थी | → थी। , दिया | → दिया। , दी | → दी। ,...)
छो (→‎खालसा पंथ साजने का चित्र: clean up, replaced: कारन → कारण AWB के साथ)
 
== खालसा पंथ साजने का चित्र ==
जब कोई धर्म आगे बढ़ता है तो उसके बहुत आम दीखता है कि उसके अनुयायी बहुत हैं, ज्यादातर तो देखा-देखी हो जाते हैं, कुछ शरधा में हो जाते हैं, कुछ अपने खुदगर्जी के कारनकारण हो जाते हैं, असल अनुयायी तो होते ही गिने चुने हैं। इस बात का प्रमाण आनंदपुर में मिला। जब सतगुर गोबिंद सिंह ने तलवार निकल कर कहा की ""उन्हें एक सिर चाहिये"" | सब हक्के बक्के रह गए | कुछ तो मौके से ही खिसक गए | कुछ कहने लग पड़े गुरु पागल हो गया है | कुछ तमाशा देखने आए थे | कुछ माता गुजरी के पास भाग गए की देखो तुमहरा सपुत्र क्या खिचड़ी पका रहा है |
 
१० हज़ार की भीड़ में से पहला हाथ भाई दया सिंह जी का था | गुरमत विचारधारा के पीछे वोह सिर कटवाने की शमता रखता था | गुरु साहिब उसको तम्बू में ले गए | वहाँ एक बकरे की गर्दन काटी | खून तम्बू से बहर निकलता दिखाई दिया | जनता में डर और बढ़ गया | तब भी हिमत दिखा कर धर्म सिंह, हिम्मत सिंह, मोहकम सिंह, साहिब सिंह ने अपना सीस कटवाना स्वीकार किया | गुरु साहिब बकरे झटकते रहे |