मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

7 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
clean up, replaced: कारन → कारण (5) AWB के साथ
 
'''गाड़ी''', '''मोटरवाहन ''', '''कार''', '''मोटरकार''' या '''ऑटोमोबाइल''' एक [[चक्र|पहियों]] वाला [[वाहन]] है, जो [[यात्री|यात्रियों]] के [[परिवहन]] के काम आता है; और जो अपना [[इंजन]] या मोटर भी स्वयं उठाता है। इस शब्द की अधिकांश परिभाषाओं के अनुसार मोटरवाहन मुख्य रूप से सड़कों पर चलाने के लिए हैं, एक से आठ लोगों कों बैठाने के लिए हैं, आमतौर पर जिनके चार पहिये होते हैं, जिनका निर्माण मुख्य रूप से सामान<ref><!--
{{cite book | title=Pocket Oxford Dictionary |year=1976 |publisher=Oxford University Press |location=London |id=ISBN 0-19-861113-7}} --></ref> के उपेक्षा लोगों के [[परिवहन]] के लिए किया जाता है।
 
मोटरकार शब्द का प्रयोग विद्युतिकृत रेल प्रणाली के सन्दर्भ में, एक ऐसी कार के लिए प्रयुक्त होता है, जो एक छोटा लोकोमोटिव होने के साथ ही, इसमे लोगों और सामान के लिए जगह भी होती है। ये लोकोमोटिव कार उपनगरीय मार्गों में अंतर्नगरीय रेल प्रणालियों में इस्तेमाल की जाती हैं।
| id=ISBN 1-86207-698-7
}}
--></ref>.निःसंदेह [[रिचर्ड Trevithick|रिचर्ड तेरिवेतिक्क ने]] ([[:en:Richard Trevithick|Richard Trevithick]]) निर्माण और प्रदर्शन किया '' पुफ्फिंग डेविल '' रोड लोकोमोटिव का 1801 में, कई लोगों का ये मानना था की ये पहला प्रदर्शन था भाप द्वारा चले वाली सड़क वाहन का, हालाँकि ये असमर्थ थी देर तक स्टीम प्रेशर को बना के रखने में और जिसका हम कोई भी उचित प्रयोग नही कर सकते थे।
 
[[रुस|रूस]] में 1780 में [[इवान कूलिबिं|इवान कुलिबिं]] ([[:en:Ivan Kulibin|Ivan Kulibin]]) ने ह्यूमन पेदाल्लेद वाहन पर [[भाप का इंजन|भाप इंजन]] द्वारा काम शुरू किया। वह उस पर 1791 में काम खत्म कर दिया.इसकी कुछ विशेषताओं में शामिल था [[उड़न चक्का|फ्ल्य्व्हील]] ([[:en:flywheel|flywheel]]),[[ब्रेक]] ([[:en:brake|brake]]),[[गियर बॉक्स]] ([[:en:gear box|gear box]]), और [[बेयरिंग (मेकनिकल)|बेअरिंग]] ([[:en:Bearing (mechanical)|bearing]]), जो एक आधुनिक ऑटोमोबाइल की भी विशेषताएं हैं। उनके डिजाइन में तीन पहिये थे। दुर्भाग्य वश, उनके और भी आविष्कारों के तरह, सरकार संभावित बाजार को देखने में विफल रही और इसे आगे विकसित नहीं था।<ref>http://www.nntu.sci-nnov.ru/NSTU/Amf/nir_ist.htm</ref><ref>http://www.aboutmycar.com/category/car_history/creation_history/automobile-invention-1122.htm</ref><ref>http://www.carseller.ru/articles/10-01-2008.1350.html</ref><ref>http://www.devichnick.ru/031kulibin.htm</ref><ref>http://www.mexanik.ru/332/vved.htm</ref><ref>http://bibliotekar.ru/encAuto/6.htm</ref><ref>http://avto-news.my1.ru/</ref><ref>http://bse.sci-lib.com/article090486.html</ref><ref>http://www.textreferat.com/referat-2531-1.html</ref><ref>http://www.automag.vrn.ru/99_23/4.html</ref>
[[चित्र:CarlBenz.jpg|upright|left|thumb|कार्ल बेन्ज़]]
[[चित्र:1885Benz.jpg|right|thumb|एक मूल तस्वीर ''बेंज पेटेंट Motorwagon'', जो पहली बार 1885 मे बनाया गया था और इस अवधारणा के लिए पेटेंट से सम्मानित किया गया था]]
1879 मे बेन्ज़ को उसकी पहली इंजन के लए पटेंट दिया गया, जिसको उसने 1878 मे डिजाईन किया था। उसके अन्य कई आविष्कारों मे भी आंतरिक दहन इंजन के इस्तेमाल को सम्भव बनाया,
 
उनकी पहली '' [[बेंज पेटेंट Motorwagen|motorwagon]] ([[:en:Benz Patent Motorwagen|Motorwagon]])'' 1885 मे बनाया गया था और उन्हें इसके आविष्कार और ऍप्लिकेशन के लिए पटेंट से समानित किया गया था [[29 जनवरी|जनवरी 29]], [[1886|1886 mein]] .[[3 जुलाई|जुलाई 3]] ([[:en:July 3|July 3]])[[1886]] में बेन्ज़ ने अपने वाहन का प्रचार शुरू किया और लगभग 25 बेन्ज़ के वाहन बीके 1888 और 1893 के बिच, इसी समय उनकी पहली चौपहिया गाड़ी आई जो एक सहूलियत वाहन के रूप में दर्शायी गई .वे भी अपने ही चार स्ट्रोक इंजन डिजाईन के द्वारा संचलित थे। [[फ़्राँस|फ़्रांस]] के [[Emile रोजर|एमिले रॉजर]] ([[:en:Émile Roger|Émile Roger]]), जो पहले से ही लाइसेंस के तहत बेंज इंजनों का निर्माण करते थे, अब बेन्ज़ ऑटोमोबाइल को अपने प्रोडक्ट लाइन में शामिल कर लिया .क्योंकि फ्रांस प्रारंभिक ऑटोमोबाइल के लिए अधिक खुला था, इसी लिए रॉजर फ्रांस में ज्यादा बनता और बेचता था बेन्ज़ के जर्मनी में बेचने के अपेक्षा .
 
1896 में बेन्ज़ ने पहला आंतरिक-दहन [[फ्लैट इंजन]] ([[:en:flat engine|flat engine]]) का डिजाईन किया और पेटेंट कराया जिसे जर्मन में ''बोक्सेर्मोटर '' बोला गया .उन्नीसवीं सदी के अंतिम वर्षों के दौरान, बेंज दुनिया का सबसे बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनी जो 572 वाहन का 1899 में उत्पादन किया और इस्सी संख्या के कारनकारण , बेन्ज़ एंड कई एक [[संयुक्त-स्टॉक कंपनी|सयुंक्त - स्टॉक कंपनी]] ([[:en:joint-stock company|joint-stock company]]) बनी .
 
1890 में Daimler और Maybach ने [[दैम्लेर मोटरें गेसेल्ल्शाफ्त|Daimler Motoren Gesellschaft]] ([[:en:Daimler Motoren Gesellschaft|Daimler Motoren Gesellschaft]]) (Daimler मोटर कंपनी, DMG) की स्थापना की [[Cannstatt|कान्न्स्तात्त]] ([[:en:Cannstatt|Cannstatt]]) में, ''Daimler'' नाम के तहत, उन्होंने अपनी पहली ऑटोमोबाइल 1892 में बेचा, जो एक घोडे से चलने वाली स्तागेकोच जिसे किस्सी और निर्माता नें बनाया था, जिसमें उन्होंने अपने डिजाईन किए हुए इंजन लगा दी थी। 1895 तक दैम्लेर और मय्बच ने 30 वाहने बनाई, जिन्हें वे दैम्लेर वोर्क्स या होटल हेर्मन्न में बनाई, जहाँ वोह अपनी दुकान की स्थापना की अपने समर्थकों के जाने. क बाद .बेन्ज़ और मय्बच और दैम्लेर टीम, एक दूसरे क पहले क अविष्कारों से अवगत नही थे। वो कभी भी साथ काम नही किए थे क्यूंकि जब दोनों कंपनियां एक हुई, तो दैम्लेर और मय्बच DMG के हिस्से नही थे।
 
दैम्लेर का देहांत 1900 में हुआ और उसी वर्ष क अंत में माय्बैक ने एक इंजन डिजाईन किया जिसका नाम था, ''Daimler-मर्सिडीज'', उसे स्थापित किया गया एक विशेष मॉडल में जो [[एमिल Jellinek]] ([[:en:Emil Jellinek|Emil Jellinek]]) द्वारा बनाया गया था। यह उत्पादन काफ़ी चोटी संख्या में जेल्लिनेक ने की थी अपने देश क बाज़ार क लिए .दो साल बाद, 1902 में, एक नई मॉडल DMG ऑटोमोबाइल का उत्पादन किया गया जिसका नाम मर्सिडीज रखा गया माय्बैक इंजन के ऊपर जो 35 HP उत्पन्न करती थी। शीघ्र ही माय्बैक ने DMG छोड़ दी और अपना ख़ुद का एक व्यपार शुरू किया। ''Daimler'' ब्रांड नाम का अधिकार अन्य निर्माताओं को बेच दिया गया .
 
कार्ल बेन्ज़ ने DMG और बेंज & Cie.के बीच सहयोग बनाये रखने का प्रस्ताव रखा, जब जर्मनी की आर्थिक परिस्थितियाँ ख़राब होने लगी [[प्रथम विश्वयुद्ध|प्रथम विश्व युद्ध]] के उपरांत, पर DMG के निर्दर्शक इससे शुरू में मानने से इनकार कर दिए .दोनों कंपनियों के बीच बातचीत के कई साल बाद शुरू हुए जब ये हालत और भी बदतर हो गये और 1924 में उन्होंने एक '' आपसी सहयोग का दस्तावेज '' बनाया जिसकी मान्यता साल 2000 तक थी। दोनों उद्यमों ने standardize किया अपना डिजाईन, उत्पादन, खरीद और बिक्री और वोह सयुंक्त रूप से विज्ञापन और मार्केटिंग करते थे अपने ऑटोमोबाइल मॉडलों का, पर वो अपने ब्रांड बरक़रार रखे हुए थे।
 
28 जून 1926 को बेंज & Cie. और DMG अंततः मर्ज होके ''Daimler-बेंज'' कम्पनी बनी और अपने सभी मोटर वाहनों का नामकरन किया, ''मर्सिडीज बेंज'', एक ऐसे ब्रांड के तौर पर जिसने समानित किया सबसे महत्वपूर्ण मॉडल DMG औतोमोबिलेस का, बाद में माय्बैक डिजाईन को जन गाया ''1902 मर्सिडीज-35hp'' के तौर पे बेन्ज़ के नाम के साथ . 1929 में बेन्ज़ की मृत्यु तक वोह दैम्लेर - बेन्ज़ के निदेशक मंडल के सदस्य बने रहे और कभी कभी उनके दोनों पुत्र भी कंपनी के काम काज में हाथ बताते थे।
 
1890 में, [[फ़्राँस|फ्रांस]] के [[Emile Levassor]] ([[:en:Émile Levassor|Émile Levassor]]) और [[आर्मंड Peugeot]] ([[:en:Armand Peugeot|Armand Peugeot]]) ने दैम्लेर इंजन को लेकर वाहनों का उत्पादन शुरू किया और इस प्रकार फ्रांस में ऑटोमोबाइल उद्योग की नीव डाली .
1877 में, [[Rochester, न्यूयॉर्क|रोचेस्टर, न्यूयॉर्क]] ([[:en:Rochester, New York|Rochester, New York]]) के [[जॉर्ज बाल्डविन Selden|जॉर्ज Selden]] ([[:en:George Baldwin Selden|George Selden]]) ने सबसे पहला डिजाईन बनाया एक अमेरिकी ऑटोमोबाइल का जिसमे गैसोलीन आंतरिक दहन इंजन थी, जिन्होंने उसके पेटेंट के लिए दरख्वास्त डाली 1879 में, पर ये दरख्वास्त खारिज हो गई क्योंकि इस वाहन का निर्माण कभी हुआ ही नही न ही कभी काम में आया . सोलाह सालों के विलंब के बाद और कई श्रृंखलाओं को उसके आवेदन में जोड़ने के बाद, 5 नवम्बर 1895, में seldon को अमेरिकन पेटेंट दिया गाया (<!--Translate this template and uncomment
{{US patent|549160}}
-->) उसके [[दो स्ट्रोक चक्र|दो स्ट्रोक]] ([[:en:two-stroke cycle|two-stroke]]) ऑटोमोबाइल इंजन के लिए, जो ज्यादा बाधक साबित हुई बजाये प्रोत्साहित करने के, [[संयुक्त राज्य अमेरिका|अमेरिका]] में, वाहनों के विकास में . इनकी पेटेंट को चुनौती हेनरी फोर्ड और अन्य ने दी और 1911 में वापिस ले ली गई .
 
[[संयुक्त राजशाही (ब्रिटेन)|ब्रिटेन]] में कई प्रयास किए गएँ भाप करें बनने की पर सब कुछ ही हद तक सफल रहे, [[Rickett (कार)|थॉमस Rickett]] ([[:en:Rickett (car)|Thomas Rickett]]) के साथ जिन्होंने 1860 में उत्पादन भी शुरू किया था।<ref name=V&VCars><!--Translate this template and uncomment
1920 के दशक से, लगभग सभी कारें बाजार की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए थोक में बनाई गई, इसलिए उनकी मार्केटिंग योजनायें ऑटोमोबाइल डिजाईन से काफ़ी प्रभावित थी। वो [[अल्फ्रेड पी. स्लोअन|अल्फ़्रेड पी.स्लोअन]] ([[:en:Alfred P. Sloan|Alfred P. Sloan]]) थे जिन्होंने यह विचार स्थापित किया की एक कंपनी को अलग अलग करें बने चाहिए, ताकि खरीदार की आर्थिक अवस्था में सुधार के साथ वोह आगे बढ़ सके .
 
इस तेज परिवर्तन के परिणामस्वरूप, जहाँ बनी हुई छोटे छोटे भाग एक दूसरे के साथ बटने से, उत्पादन बड़े मात्र में हुई, वोह भी कम कीमत पे हर एक भाग का .उदाहरण के लिए, 1930 के दशक में, [[ला साल्ले]] ([[:en:LaSalle|LaSalle]]), जिसने बेचा [[कादिल्लाक]] ([[:en:Cadillac|Cadillac]]) ने, इस्तमाल किया सस्ते यांत्रिक भागों का [[ओल्ड्स मोबाइल]] ([[:en:Oldsmobile|Oldsmobile]]) द्वारा बना हुआ ;उसी तरह [[शेव्रोले|चेर्वोले]] ने अपनी हुड, दरवाजों, छत साझा और खिड़कियाँ बांटी [[पोंतिअक]] ([[:en:Pontiac|Pontiac]]) के साथ ; और 1990 तक, कॉर्पोरेट [[ड्राइव ट्रेन|ड्राइव ट्रेन्स]] ([[:en:drivetrain|drivetrain]]) और साझा [[ऑटोमोबाइल प्लेटफार्म|प्लेटफार्म]] ([[:en:automobile platform|platforms]])(इंटर चंगाब्ले [[ब्रेक]] ([[:en:brake|brake]]), सुस्पेंसन और अन्य भाग) एक आम बात बन गई थी। फिर भी, केवल प्रमुख निर्मतायें ही सक्छम थे इतने उच्चे दम पर निर्माण करने के लिए, क्योंकि कंपनियां जो दशकों से उत्पादन में थी, जैसे [[अप्पेर्सोँ|अप्पेर्सन]] ([[:en:Apperson|Apperson]]),[[कोल (कार कंपनी)|कोल]] ([[:en:Cole (car company)|Cole]]), [[दोर्रिस मोटर्स कार्पोरेशन|दोर्रिस]] ([[:en:Dorris Motors Corporation|Dorris]]),[[हायनेस ऑटोमोबाइल कंपनी|हायनेस]] ([[:en:Haynes Automobile Company|Haynes]]), या [[प्रीमियर (अमेरिकी कार)|प्रेमिएर]] ([[:en:Premier (U.S. car)|Premier]]), भी यह सेह न सकी, लगभग कुछ दो सौ अमेरिकन कार निर्माता थे 1920 में, जिनमें से केवल 43 बची १९३० तक और [[ग्रेट डिप्रेशन]] ([[:en:Great Depression|Great Depression]]) के साथ, केवल 17 ही बच पाई .<ref name=Georgano/>
 
यूरोप में भी लगभग येसा ही होगा .1924 में, [[कावले, ऑक्सफोर्ड|कावले]] ([[:en:Cowley, Oxford|Cowley]]) में, [[मॉरिस मोटर कंपनी|मौरिस]] ([[:en:Morris Motor Company|Morris]]) ने अपनी उत्पादन लाइन की स्थापना की और जल्द ही फोर्ड को बेच दिया, हालाँकि 1923 में शुरू हुई, फोर्ड की [[सीधा संघटन|सीधा एकीकरण]] ([[:en:vertical integration|vertical integration]]), जिसने खरीदा [[होत्च्किस (ऑटोमोबाइल)|होत्च्किस]] ([[:en:Hotchkiss (automobile)|Hotchkiss]])(की इंजन), [[इ जी व्रिग्ले एंड कंपनी|व्रिग्ले]] ([[:en:EG Wrigley and Company|Wrigley]])(की गियर बॉक्स), और [[ओस्बेर्तों]] ([[:en:Osberton|Osberton]]) (के रादिअतोर्स), उस समय, साथ ही पर्तियोगी, जैसे [[वोल्सेले मोटर कंपनी|wolseley]] ([[:en:Wolseley Motor Company|Wolseley]]),1925 में मोरिस के पास 41% कुल ब्रिटिश कार उत्पादन थी। अधिकांश छोटे ब्रिटिश कार अस्सेम्ब्लेर्स, [[अब्बे (1922 ऑटोमोबाइल)|अब्बे]] ([[:en:Abbey (1922 automobile)|Abbey]]) से लेकर [[एक्स्ट्रा (ऑटोमोबाइल)|एक्स्ट्रा]] ([[:en:Xtra (automobile)|Xtra]]) तक वापिस चले गएँ .सित्रोएँ ने फ्रांस में भी यही किया, जहाँ कार की बात होती है 1919 में, उनके और दूसरी सस्ते कारों के बीच जैसे [[रेनोल्ट]] ([[:en:Renault|Renault]]) की [[रेनोल्ट 10 CV|10 CV]] ([[:en:Renault 10CV|10CV]]) और [[पयूगेओत|पयूगेत]] ([[:en:Peugeot|Peugeot]]) की [[पयूगेओत 5 CV|5 CV]] ([[:en:Peugeot 5CV|5CV]]), उन्होंने 550,000 कारों का निर्माण किया 1925 तक और इसमें [[मोर्स (ऑटोमोबाइल)|मोर्स]] ([[:en:Mors (automobile)|Mors]]),[[हरतु]] ([[:en:Hurtu|Hurtu]]), और अन्य कई इस कार बनने के होड़ में जीत नही पायें.<ref name=Georgano/> जर्मनी की पहली सामूहिक-निर्मित कार, [[ओपल|ओपेल]] [[ओपेल लौब्फ्रोस्च|4PS"लौब्फ्रोस्च"]] ([[:en:Opel Laubfrosch|4PS ''Laubfrosch'']]) (ट्री फरोग), बन के टायर हुई [[रुस्सेल्शेइम]] ([[:en:Russelsheim|Russelsheim]]) में 1924 में और ये जल्दही ओपेल को शीर्ष कार निर्माता बना दी जर्मनी में 37.5 % मार्केट शेयर के साथ.<ref name=Georgano/>
|accessdate=2007-03-03
}}
--></ref> तैल की बढती कीमत, सख्त पर्यावरण [[विधि|कानून]] और [[ग्रीनहाउस गैस]] ([[:en:greenhouse gas|greenhouse gas]]) एमिस्सिओं पर पबंधियों ने हमे दूसरे ऊर्जा प्रणालियों को ढूँढने पर मजबूर कर दिया .मौजूदा प्रौद्योगिकियों को सुधरने और हटाने के प्रयास में हमने दूसरे विकास किए जैसे [[हाइब्रिड वाहन]] ([[:en:hybrid vehicle|hybrid vehicle]]), और [[बिजली वाहन|बिजली]] ([[:en:electric vehicle|electric]]) और [[हाइड्रोजन वाहन]] ([[:en:hydrogen vehicle|hydrogen vehicle]])s जो हवा में प्रदूषण नही फैलाते थे।
 
=== डीजल ===
-->
[[चित्र:07-Mini-Cooper.jpg|thumb|right|[[मिनी (बीएमडब्ल्यू)|2007 मार्क द्वितीय (बीएमडब्ल्यू) मिनी कूपर]] ([[:en:Mini (BMW)|2007 Mark II (BMW) Mini Cooper]])]]
पेट्रोल इंजन का फायदा डीजल इंजन की तुलना में यह है की वोह हल्का है और उच्च घूर्णी गति पर काम कर सकती है और उन्हें हमेशा मान्यता मिलता है जब भी स्पोर्ट्स कर की इंजन में, उनके अच्छे प्रदर्शन के लिए .एक सौ वर्ष से अधिक गैसोलीन इंजनों के सतत विकास ने उनके कार्यकुशलता में काफ़ी सुधर लायी है और प्रदूषण फैलाना भी कम कर दिया है।[[कार्बोरेटर]] ([[:en:carburetor|carburetor]]) 1980 के दशक तक लगभग सभी सड़क पर चलने वाली कार इंजनों में इस्तेमाल किया जाता था, इसका इस्तमाल ख़तम हुआ जब बेहतर नियंत्रण मिल पाया फुएल और हवा के मिश्रण पर, जिसे पाया गया [[फुएल इंजेक्शन]] ([[:en:fuel injection|fuel injection]]) द्वारा .अप्रत्यक्ष फुएल इंजेक्शन सबसे पहले विमान इंजन में इस्तमाल हुआ 1909 में, रेसिंग कार के इंजन में इसका इस्तमाल 1930 के सतक में हुआ और सड़क कारों में 1950 के दशक से इस्तेमाल किया गया था।<ref name="Norbye"/>[[गैसोलीन डायरेक्ट इंजेक्शन|गैसोलीन डायरेक्ट इंजेक्शन (GDI)]] ([[:en:Gasoline Direct Injection|Gasoline Direct Injection (GDI)]]) अब वाहनों के उत्पादन में इस्तमाल किया जाने लगा था, मिसाल के तौर पे, 2007 (मार्क द्वितीय) [[मिनी (बीएमडब्ल्यू)|BMW मिनी]] ([[:en:Mini (BMW)|BMW Mini]]) में .exhaust गैस की सफाई exhaust system mein catalytic कनवर्टर लगा के भी की जा सकती थी। स्वच्छ हवा कानून बहुत सारे कर इंडस्ट्रीज, जो बहुत महत्वपूर्ण बाजार थी, दोनों काताल्य्स्ट्स और फुएल इंजेक्शन को सार्वभौमिक फिटिंग बना दिया था। सबसे आधुनिक गैसोलीन इंजन भी सक्षम हैं चलने के, 15% [[इथेनॉल]] ([[:en:ethanol|ethanol]]) जो मिली हुई थी गसोलिने के साथ चलने की - पुराने वेहिकल में सिअल्स और होसेस होती थी जिन्हें एथेनॉल नुकसान पहुंचा सकता था। एक छोटी सी परिवर्तन के बाद, गसोलीन से चलने वाले वेहिकल, 85% इथेनॉल सांद्रता पर चला सकते हैं .00% इथेनॉल विश्व के कुछ भागों में प्रयोग किया जाता है (जैसे [[ब्राज़ील|ब्राजील]]), लेकिन वाहनों को शुद्ध गैसोलीन पर शुरू किया जाना चाहिए और इथेनॉल पर स्विच तब करना चाहिए जब इंजन चल रही हो .ज्यादातर गसोलीन से चलने वाली करें [[ऑटो गैस|LPG]] ([[:en:Autogas|LPG]]) से भी चलती हैं, जहाँ एक [[गैस सिलेंडर|LPG tank]] ([[:en:Gas cylinder|LPG tank]]) को फुएल स्टोरेज के लिए और LPG मिक्सेर कार्बुएरेशन के लिए इस्तमाल किया जाता है।LPG कम जहरीले उत्सर्जन निकला करती थ और यह एक लोकप्रिय ईंधन थी फोर्क लिफ्ट ट्रकों के लिए जो इमारतों के अन्दर संचालित की जाती थी।
 
[[चित्र:TOYOTA FCHV 01.jpg|thumb| यह हाइड्रोजन से चलने वाली FCHV ([[फ्यूल सेल हाइब्रिड वाहन|फुएल सेल हाइब्रिड वाहन]] ([[:en:Fuel Cell Hybrid Vehicle|Fuel Cell Hybrid Vehicle]])) विकसित किया गया था [[टोयोटा]] ([[:en:Toyota|Toyota]]) द्वारा 2005 में]] .
 
=== रोटरी (वान्केल) इंजन ===
रोटरी [[वान्केल इंजन]] ([[:en:Wankel engine|Wankel engine]]) को शुरू किया गया सड़क कारों में [[NSU]] ([[:en:NSU|NSU]]) द्वारा, साथ [[NSU Ro 80|Ro 80]] ([[:en:NSU Ro 80|Ro 80]]) के और बाद में ये देखा गया [[सित्रोएँ GS#GS बिरोटर|सित्रोएँ GS बिरोटर]] ([[:en:Citroën GS#GS Birotor|Citroën GS Birotor]]) और कई [[मज़्दा]] ([[:en:Mazda|Mazda]]) मॉडल में .उनके प्रभावशाली स्मूथनेस के बावजूद, उनके ख़राब निर्भरता और ईंधन की अर्थव्यवस्था उनके गायब होने का कारनकारण थी। मज़्दा, जो शुरू हुई [[मज़्दा R100|R100]] ([[:en:Mazda R100|R100]]) फिर [[मज़्दा RX-2|RX-2]] ([[:en:Mazda RX-2|RX-2]]), इन इंजनों पर, अनुसंधान जारी रखा, इससे पहले की परेशानियाँ काफ़ी हद तक झुझी जा सकी [[मज़्दा RX-7|RX-7]] ([[:en:Mazda RX-7|RX-7]]) और [[मज़्दा RX-8|RX-8]] ([[:en:Mazda RX-8|RX-8]]) के मदद से .
 
=== रॉकेट और जेट कारें ===
[[चित्र:Car crash 2.jpg|right|thumb|एक गंभीर परिणाम [[मोटर दुर्घटना]] ([[:en:automobile accident|automobile accident]]) का .]]
 
यातायात सड़क दुर्घटनाएं दर्शाती है की 25% दुनिया भर की यातायात चोटों से होने वाली मौत (का मुख्या कारनकारण है), अनुमानित किया गया है 1.2 मिलियन मौत (2004) तक प्रति वर्ष हुई .<ref name=who_stats><!--Translate this template and uncomment
{{cite book |url=http://who.int/violence_injury_prevention/publications/road_traffic/world_report/en/ |accessdate=2008-06-24 |author= Peden M, Scurfield R, Sleet D ''et al.'' (eds.) |title= World report on road traffic injury prevention |date=2004 |publisher= World Health Organization |isbn=92-4-156260-9}}
--></ref>
|publisher=United States Environmental Protection Agency
}}
--></ref> रेसिदेंट्स ऑफ़ लो -डेन्सिटी, रेसिदेंतिअल -केवल स्प्रव्लिंग समुदाय के मरने की संभावना ज्यादा थी [[कार का टक्कर|कार टक्कर]] ([[:en:car collision|car collision]]) में, जिसमें 1.2 मिलियन लोग दुनिया भर में मारें हर वर्ष और इसका 40 गुना ज्यादा घायल हुए .<ref name=who_stats/> स्प्रव्ल एक विस्तार कारनकारण थी निष्क्रियता और [[मेदुरता|मोटापे]]का, जो बाद में जा के कई तरह के बिमारियों का कारनकारण बन सकती थी। <ref><!--Translate this template and uncomment
{{cite web
|title=Our Ailing Communities
अनुसंधान भविष्य के वैकल्पिक ईंधन के रूपों में शामिल करती है विकास, [[फुएल सेल्स]] ([[:en:fuel cells|fuel cells]]),[[HCCI|होमो गेनिओउस चार्ज कोम्प्रेस्सिओं इग्निशन (HCCI)]] ([[:en:HCCI|Homogeneous Charge Compression Ignition (HCCI)]]),[[स्टर्लिंग इंजन]] ([[:en:stirling engine|stirling engine]])<ref><!--Translate this template and uncomment
{{cite web||author= Paul Werbos|authorlink=Paul Werbos|url=http://www.werbos.com/E/WhoKilledElecPJW.htm|title=www.werbos.com/E/WhoKilledElecPJW.htm<!--INSERT TITLE-->|accessdate=2007-04-10}}
--></ref>, और यहाँ तक की स्तोरेड उर्जा कोम्प्रेस्सेद हवा की या [[तरल नाइट्रोजन अर्थव्यवस्था|तरल नाइट्रोजन]] ([[:en:Liquid nitrogen economy|liquid nitrogen]]) भी इस्तेमाल किया।
 
नई सामग्री, जो इस्पात कार निकायों की जगह ले ली, शामिल करती है [[दुरालुमिनुम|दुरालुमिनियम]] ([[:en:duraluminum|duraluminum]]),[[फाइबर ग्लास|फिब्रेर ग्लास]] ([[:en:fiberglass|fiberglass]]),[[कार्बन फाइबर]] ([[:en:carbon fiber|carbon fiber]]), और [[कार्बन नानो ट्यूब]] ([[:en:carbon nanotube|carbon nanotube]]).