"धातु" के अवतरणों में अंतर

21 बैट्स् नीकाले गए ,  3 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (Reverted 2 edits by 106.205.143.128 (talk) identified as vandalism to last revision by अजीत कुमार तिवारी. (TW))
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
धातुओं की पारम्परिक परिभाषा उनके बाह्य गुणों के आधार पर दी जाती है। सामान्यतः धातु चमकीले, [[प्रत्यास्थता|प्रत्यास्थ]], [[आघातवर्धनीयता|आघातवर्धनीय]] और सुगढ होते हैं। धातु [[उष्मा]] और [[विद्युत]] के अच्छे [[विद्युत चालकता|चालक]] होते हैं जबकि [[अधातु]] सामान्यतः [[भंगुर]], चमकहीन और विद्युत तथा ऊष्मा के [[कुचालक]] होते हैं।
 
 
== परिचय ==
रासायनिक तत्वों को सर्वप्रथम धातुओं और अधातुओं में विभाजित किया गया, यद्यपि दोनों समूहों को बिल्कुल पृथक्‌ नहीं किया जा सकता था। धातु की परिभाषा करना कठिन कार्य है। मोटे रूप से हम कह सकते हैं कि यदि किसी तत्व में निम्नलिखित संपूर्ण या कुछ गुण हों तो उसे धातु कहेंगे :
 
बेनामी उपयोगकर्ता