"प्राथमिक चिकित्सा" के अवतरणों में अंतर

 
; प्राथमिक उपचार करनेवाले व्यक्ति के गुण
# '''विवेकी''' (observant), जिससे वह दुर्घटना के चिन्ह पहचान सके;
# '''व्यवहारकुशल''' (tactful), जिससे घटना संबंधी जानकारी जल्द से जल्द प्राप्त करते हुए वह रोगी का विश्वास प्राप्त करे;
# '''युक्तिपूर्ण''' (resourceful), जिससे वह निकटतम साधनों का उपयोग कर प्रकृति का सहायक बने;
# '''निपुण''' (dexterous), जिससे वह ऐसे उपायों को काम में लाए कि रोगी को उठाने इत्यादि में कष्ट न हो;
# '''स्पष्टवक्ता''' (explicit), जिससे वह लोगों की सहायता में ठीक अगुवाई कर सके;
# '''विवेचक''' (discriminator), जिससे गंभीर एवं घातक चोटों को पहचान कर उनका उपचार पहले करे;
# '''अध्यवसायी''' (persevering), जिससे तत्काल सफलता न मिलने पर भी निराश न हो तथा
# '''सहानुभूतियुक्त''' (sympathetic), जिससे रोगी को ढाढ़स दे सके, होना चाहिए।
 
; प्राथमिक उपचार में आवश्यक बातें
# प्राथमिक उपचारक को आवश्यकतानुसार रोगनिदान करना चाहिए, तथा
# घायल को कितनी, कैसी और कहाँ तक सहायता दी जाए, इसपर विचार करना चाहिए।