"ब्लूटूथ" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् नीकाले गए ,  4 वर्ष पहले
→‎ब्ल्यूटूथ टैक्नोलॉजी: ट्रानसीवर को ट्रान्सरिसीवर में बदला
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(→‎ब्ल्यूटूथ टैक्नोलॉजी: ट्रानसीवर को ट्रान्सरिसीवर में बदला)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
ब्ल्यूटूथ नाम 10वीं सदी के डेनमार्क के राजा हैराल्ड ब्ल्यूटूथ से लिया गया है। ब्ल्यूटूथ टैक्नोलॉजी के अन्वेषकों के अनुसार हैराल्ड ने राजनयिक अर्थात डिप्लोमेसी की एक चाल जिसके अंतर्गत युद्धरत दल या पार्टियों ने एक दूसरे से समझौता करना शुरू कर दिया और इसी प्रक्रिया ने ब्ल्यूटूथ को इस टैक्नोलॉजी के नाम के साथ दिया जिसके अंतर्गत विभिन्न प्रकार के उपकरण या युक्तियाँ आपस में बात/सूचनाओं का आदानप्रदान कर सकते हैं।
== ब्ल्यूटूथ टैक्नोलॉजी ==
ब्ल्यूटूथ एक रेडियो और संचार प्रोटोकॉल है जिसका अभिकल्प या डिजाइन मुख्य रूप से निम्न पॉवर द्वारा 1 मीटर, 10 मीटर, 100 मीटर सीमा में सस्ते ट्रान्सरिसीवर वाली माइक्रोचिप्स (प्रत्येक उपकरण में लगाकर) के द्वारा किया गया है। ब्ल्यूटूथ टैक्नोलॉजी द्वारा ये उपकरण आपस में सीमा (रेंज) के अंदर एक दूसरे से संपर्क बना सकते हैं। ये उपकरण एक रेडियो संचार प्रणाली का प्रयोगप्रयग करते हैं इसलिए इन्हें लाइनऑफ-साइट में रहने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। यहां तक कि ये उपकरण विभिन्न कमरों में स्थित हो सकते हैं तथा यह संपर्क प्रणाली तब तक कार्यशील रहती है जब तक कि अभिगरहित शक्ति या पावर पयार्प्त होती है। इसके कारण विभिन्न एन्टिना के अभिकल्प या डिजाइन, प्रेषण पथ क्षीणन या हरास और अन्य गणक तथा प्रेक्षित सीमाएँ या परास (रेंज) परिवर्तनशील हो जाती हैं। ब्ल्यूटूथ टैक्नोलॉजी के अन्तर्गत प्रेषण शक्ति या पॉवर किसी एक वर्ग में अवश्य हो, जो सारणी 3 में दर्शाए गए है। ब्ल्यूटूथ टैक्नोलॉजी में ऊर्जा की खपत काफी कम है। ब्ल्यूटूथ टैक्नोलॉजी प्रेषीय या ट्रांसमीटर की ऊर्जा आवश्यकतानुसार सीमित कर देती है। सिग्नल की ताकत रेंज के अनुसार परिवर्तित (कम/ज्यादा) हो जाती है। अगर आंकड़ो से तुलना की जाएँ तो एक ब्ल्यूटूथ युक्ति किसी भी अन्य मोबाइल फोन से 3 प्रतिशत कम ऊर्जा का उपयोग करती है।
 
== ब्ल्यूटूथ टैक्नोलॉजी विनिर्देश और विशेषताएँ ==
3

सम्पादन