"परमार वंश" के अवतरणों में अंतर

19 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
गुर्जर
(गुर्जर)
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
{{भारतीय इतिहास}}
 
'''परमार वंश गुर्जर''' [[मध्यकालीन भारत]] का एक अग्निवंशी राजपूत राजवंश था। इस राजवंश का अधिकार धार और [[उज्जयिनी]] राज्यों तक था।और पूरे मध्यप्रदेश क्षेत्र में उनका साम्राज्य था। जब दैत्यों का अत्याचार बध गया तब चार ऋषिओने आबु पर्वत पर एक यज्ञ कीया उस अग्निकुंड में से चार अग्निवंशी क्षत्रिय निकले। परमार ,चौहान ,सोलकी ,और प्रतिहार।उन्हीं के नाम पर उनका वंश चला।ऋषि वशिष्ठ की आहुति देने से एक वीर पुरुष निकला। जो अग्निकुंडसे निकलते समय मार-मार कि त्राड करता निकला और अग्निकूंड से बाहर आते हि पर नामक राक्षस का अंत कर दिया। एसा देखकर ऋषि वशिष्ठ ने प्रसन्न होकर उस विर पुरुष को परमार नाम से संबोधित किया। उसि के वंश पर परमार वंश चला। परमार अर्थ होता हे पर -यानी (पराया)शत्रु।मार का अर्थ होता हे-मारना = यानी शत्रु को मार गिराने वाला परमार
 
आबु चंद्रावती और मालवा उज्जैन ,धार परमार राजवंश का प्रमुख राज्य क्षेत्र रहा है। ये ८वीं शताब्दी से १४वीं शताब्दी तक शासन करते रहे।परमार वंशमे दो महान सम्राट हुए:
बेनामी उपयोगकर्ता