"फ़िरोज़ाबाद" के अवतरणों में अंतर

2,502 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
स्रोतहीन सामग्री हटाया, यह फ़िरोजशाह तुगलक नहीं मनसबदार फ़िरोज़शाह के द्वारा स्थापित है
(फिरोजाबाद का पुराना नाम चन्द्रनगर था)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(स्रोतहीन सामग्री हटाया, यह फ़िरोजशाह तुगलक नहीं मनसबदार फ़िरोज़शाह के द्वारा स्थापित है)
 
== इतिहास ==
फ़िरोज़ाबाद का पुराना नाम चंदवार बताया जाता है, वर्तमान नाम अकबर के समय में मनसबदार फ़िरोज़शाह द्वारा 1566 में दिया गया।<ref>http://firozabad.nic.in/District_History.html</ref>
 
फ़िरोज़ाबाद का इतिहास चंद्रवार के उजड़ते जाने और फ़िरोज़ाबाद के बसते जाने की कहानी एक ही सिक्के के दो पहलू है फ़िरोज़बाद की स्थापना सुल्तान फ़िरोज़शाह तुग़लक ने (1351-1388 ई.)की थी और अपनी राजधानी को दिल्ली से दस मील की दूरी पर बसाया था। यही नाम सुल्तान ने 1353-1354 ई. में बंगाल की चढ़ाई के दौरान वहाँ के 'पहुँचा नगर' को भी दिया था। सुल्तान फ़िरोज़ कट्टर मुसलमान था और उसने देश का प्रशासन इस्लाम के सिद्धान्तों के अनुरूप चलाने का प्रयास किया। फलस्वरूप हिन्दुओं को, जो बहुमत में थे, भारी कठिनाईयों का सामना करना पड़ा। उनके धार्मिक उत्सवों, सार्वजनिक सभाओं और पूजा पाठ पर प्रतिबंध लगाया गया। यहाँ क़े ज़मींदार मनिहार और पठान ही थे।{{cn}}
 
इस धार्मिक कट्टरता के बावजूद फ़िरोज़ उदार शासक था।{{cn}} उसने अनेक कष्टदायी और अनुचित करों को समाप्त किया, यद्यपि ब्राह्मणों पर भी जजिया कर थोपा गया, जो कि अभी तक इससे मुक्त थे। उसने सिंचाई के कार्य को प्रोत्साहन दिया, जौनपुर सहित कई नगरों की स्थापना की, अनेक बाग़-बग़ीचों को लगाया और वहाँ पर तमाम मस्ज़िदों का निर्माण कराया। उसने अंग-भंग जैसे कठोर दंडों को समाप्त किया और एक धर्मार्थ चिकित्सालय की स्थापना की। जहाँ रोगियों को दवाएँ और भोजन मुफ़्त दिया जाता था। उसका शासन कठोर था। ।{{cn}}
 
== नगर पालिका की स्थापना ==