"फ़िरोज़ाबाद" के अवतरणों में अंतर

111 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
तुगलक द्वारा नहीं, #इतिहास अनुभाग देखें
(स्रोतहीन सामग्री हटाया, यह फ़िरोजशाह तुगलक नहीं मनसबदार फ़िरोज़शाह के द्वारा स्थापित है)
(तुगलक द्वारा नहीं, #इतिहास अनुभाग देखें)
'''फिरोजाबाद''' [[उत्तर प्रदेश]] का एक शहर एवं जिला मुख्यालय है।यह शहर [[चूड़ी|चूड़ियों]] के निर्माण के लिये प्रसिद्ध है। यह [[आगरा]] से 40 किलोमीटर और राजधानी [[दिल्ली]] से 250 किलोमीटर की दूरी पर पूर्व की तरफ स्थित है। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ यहाँ से लगभग 250 किमी पूर्व की तरफ है। फिरोज़ाबाद ज़िले के अन्तर्गत दो कस्बे [[टुंडला]] और [[शिकोहाबाद]] आते हैं। टुंडला पश्चिम तथा शिकोहाबाद शहर के पूर्व में स्थित है।
 
इस शहर को [[फीरोज़शाह तुग़लक़]] ने बसाया था। फिरोज़ाबाद में मुख्यतः चूडियों का कारोबार होता है। यहाँ पर आप रंग बिरंगी चूडियों को अपने चारों ओर देख सकते हैं। लेकिन अब यहाँ पर गैस का कारोबार होता है। यहाँ पर काँच का अन्य सामान (जैसे काँच के झूमर) भी बनते हैं।
 
इस शहर की आबो हवा गरम है। यहाँ की आबादी बहुत घनी है। यहाँ के ज्यादातर लोग कोरोबार से जुडे हैं। घरों के अन्दर महिलाएं भी चूडियों पर पालिश और हिल लगाकर रोजगार अर्जित कर लेती हैं। बाल मज़दूरी यहाँ आम है। सरकार तमाम प्रयासों के बावजूद उन पर अंकुश नहीं लगा सकी है। जबकि पंडित तोताराम सनाढय द्वारा बंधुआ मजदूरी/गिरमिटिया प्रथा को फिजी में समाप्त किया।जिनकी जन्म स्थली फीरोजाबाद से लगभग 8 किलो मीटर दूर गाओं हिरन गाओं में है !फिरोजाबाद को प्राचीन समय में चन्द्रनगर के नाम से जाना जाता था