"फफूंद" के अवतरणों में अंतर

395 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
छो
सन्दर्भ जो
छो (106.79.224.175 (Talk) के संपादनों को हटाकर चक्रबोट के आखिरी अवतरण को पू...)
टैग: प्रत्यापन्न
छो (सन्दर्भ जो)
[[चित्र:Armillaria ostoyae MO.jpg|right|thumb|300px|"आर्मिलेरिया ओस्टोयी" नामक कवक]]
 
'''फफूंद''' या '''कवक''' एक प्रकार के [[पौधा|पौधे]] हैं जो अपना भोजन सड़े गले म्रृत [[कार्बनिक पदार्थ|कार्बनिक पदार्थों]] से प्राप्त करते हैं। ये संसार के प्रारंभ से ही जगत में उपस्थित हैं। इनका सबसे बड़ा लाभ इनका संसार में अपमार्जक के रूप में कार्य करना है। इनके द्वारा जगत में से कचरा हटा दिया जाता है।<ref name="फफूंद परिभाषा">{{cite web|first1=Vernon|last1=Ahmadjian|first2=David|last2=Moore|first3=Constantine John|last3=Alexopoulos|title=Fungus: organism|trans_title=कवक: जीव|url=https://www.britannica.com/science/fungus|website=BRITANNICA|publisher=ENCYCLOPÆDIA BRITANNICA|accessdate=31-12-2017|language=अंग्रेज़ी}}</ref><br>
 
कवक (फंगस, Fungus) जीवों का एक विशाल समुदाय है जिसे साधारणतया वनस्पतियों में वर्गीकृत किया जाता है। इस वर्ग के सदस्य पर्णहरिम (chlorophyll) रहित होते हैं और इनमें प्रजनन बीजाणुओं (spore) द्वारा होता है। ये सभी सूकाय (thalloid) वनस्पतियाँ हैं, अर्थात् इनके शरीर के [[ऊतकों]] (tissues) में कोई भेदकरण नहीं होता; दूसरे शब्दों में, इनमें जड़, तना और पत्तियाँ नहीं होतीं तथा इनमें अधिक प्रगतिशील पौधों की भाँति संवहनीयतंत्र (vascular system) नहीं होता। पहले इस प्रकार के सभी जीव एक ही वर्ग कवक के अंतर्गत परिगाणित होते थे, परंतु अब वनस्पति विज्ञानविदों ने कवक वर्ग के अतिरिक्त दो अन्य वर्गों की स्थापना की है जिनमें क्रमानुसार [[जीवाणु]] (bacteria) और श्लेष्मोर्णिका (slime mold) हैं। जीवाणु एककोशीय होते हैं जिनमें प्रारूपिक नाभिक (typical nucleus) नहीं होता तथा श्लेष्मोर्णिक की बनावट और पोषाहार (, nutrition) जंतुओं की भाँति होता है। कवक अध्ययन के विज्ञान को [[कवक विज्ञान]] (mycology) कहते हैं।
 
कवक (फंगस, Fungus) जीवों का एक विशाल समुदाय है जिसे साधारणतया वनस्पतियों में वर्गीकृत किया जाता है। इस वर्ग के सदस्य पर्णहरिम (chlorophyll) रहित होते हैं और इनमें प्रजनन बीजाणुओं (spore) द्वारा होता है। ये सभी सूकाय (thalloid) वनस्पतियाँ हैं, अर्थात् इनके शरीर के [[ऊतकों]] (tissues) में कोई भेदकरण नहीं होता; दूसरे शब्दों में, इनमें जड़, तना और पत्तियाँ नहीं होतीं तथा इनमें अधिक प्रगतिशील पौधों की भाँति संवहनीयतंत्र (vascular system) नहीं होता। पहले इस प्रकार के सभी जीव एक ही वर्ग कवक के अंतर्गत परिगाणित होते थे, परंतु अब वनस्पति विज्ञानविदों ने कवक वर्ग के अतिरिक्त दो अन्य वर्गों की स्थापना की है जिनमें क्रमानुसार [[जीवाणु]] (bacteria) और श्लेष्मोर्णिका (slime mold) हैं। जीवाणु एककोशीय होते हैं जिनमें प्रारूपिक नाभिक (typical nucleus) नहीं होता तथा श्लेष्मोर्णिक की बनावट और पोषाहार (, nutrition) जंतुओं की भाँति होता है। कवक अध्ययन के विज्ञान को [[कवक विज्ञान]] (mycology) कहते हैं।<br>
कुछ लोगों का मत है कि कवक की उत्पत्ति [[शैवाल]] (algae) में पर्णहरिम की हानि होने से हुई है। यदि वास्तव में ऐसा हुआ है तो कवक को पादप सृष्टि (Plant kingdom) में रखना उचित ही है। दूसरे लोगों का विश्वास है कि इनकी उत्पत्ति रंगहीन कशाभ (flagellata) या प्रजीवा (protozoa) से हुई है जो सदा से ही पर्णहरिम रहित थे। इस विचारधारा के अनुसार इन्हें वानस्पतिक सृष्टि में न रखकर एक पृथक सृष्टि में वर्गीकृत किया जाना चाहिए।
 
 
कुछ लोगों का मत है कि कवक की उत्पत्ति [[शैवाल]] (algae) में पर्णहरिम की हानि होने से हुई है। यदि वास्तव में ऐसा हुआ है तो कवक को पादप सृष्टि (Plant kingdom) में रखना उचित ही है। दूसरे लोगों का विश्वास है कि इनकी उत्पत्ति रंगहीन कशाभ (flagellata) या प्रजीवा (protozoa) से हुई है जो सदा से ही पर्णहरिम रहित थे। इस विचारधारा के अनुसार इन्हें वानस्पतिक सृष्टि में न रखकर एक पृथक सृष्टि में वर्गीकृत किया जाना चाहिए।<br>
 
 
वास्तविक कवक के अंतर्गत कुछ ऐसी परिचित वस्तुएँ आती हैं, जैसे गुँधे हुए आटे (dough) से [[पावरोटी]] बनाने में सहायक एककोशीय [[खमीर]] (yeast), बासी रोटियों पर रूई की भाँति उगा फफूँद, [[चर्म]] को मलिन करनेवाले [[दाद]] के कीटाणु, फसल के नाशकारी रतुआ तथा कंडुवा (rust and smut) और खाने योग्य एव विषैली [[कुकुरमुत्ता (कवक)|कुकुरमुत्ते]] या खुंभियाँ (mushrooms)।
202

सम्पादन