"प्लास्टर" के अवतरणों में अंतर

193 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
बनाने की विधि
(बनाने की विधि)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
 
पानी मिलने पर जब यह जमता है, तब कुछ ऊष्मा उत्पन्न होती है और आयतन में वृद्धि के कारण ही यह रंगने या पॉलिश की जाने वाली लकड़ी या पलस्तर को दरारों ओर छेदी में भरने के लिये तथा साँचों में ढालकर विविध प्रकार की वस्तुएँ बनाने के लिये विशेष उपयुक्त होता है। पेरिस प्लास्टर का प्रयोग सजावटी पलस्तर में भी होता है। इस कार्य के लिये यह सवर्त्तोम है, क्योंकि इसके प्रयोग से कठोर तल, तीव्र रैखिक उभार और धारें सरलता से बनती हैं और सुदृढ़ होती हैं। इसकी शीघ्र जमने की प्रकृति ढलाई के लिये तो उपयोगी है, किंतु दीवार पर पलस्तर करने के लिये इसे अनुपयुक्त कर देती है। अपने स्थान पर ढाली गई और पूवनिर्मित, दोनों ही प्रकार की छतें बनाने के लिये इसका व्यापक प्रयोग होता है।
 
'''बनाने की [[विधि]]'''---
 
जिप्सम को 150 पर गर्म करने पर प्लास्टर ऑफ पेरिस बनता है ।
 
[[श्रेणी:अकार्बनिक यौगिक]]
बेनामी उपयोगकर्ता