"इज़राइल" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
(ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: । → । (8), नागरिको → नागरिकों , → (2), उपर → ऊपर , क्षेत्रो → क्षेत्रों)
(→‎स्वतंत्रता और शुरुआती समय: व्याकरण में सुधार)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन
[[द्वितीय विश्वयुद्ध]] के बाद ब्रिटिश साम्राज्य ने स्वयं को एक विकत परिस्तिथि में पाया जहाँ उनका विवाद यहूदी समुदाय के साथ दो तरह की मानसिकता में बाँट चुका था। जहाँ एक तरफ हगना, इरगुन और लोही नाम के संगठन ब्रिटिश के खिलाफ हिंसात्मक विद्रोह कर रहे थे वहीँ हजारो यहूदी शरणार्थी इजराइल में शरण मांग रहे थे ! तभी सन १९४७ में ब्रिटिश साम्राज्य ने ऐसा उपाय निकलने की घोषणा की जिस से अरब और यहूदी दोनों संप्रदाय के लोग सहमत हो ! संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा फिलिस्तीन के विभाजन को (संयुक्त राष्ट्र संघ के १८१ घोषणा पत्र) नवम्बर २९,१९४७ मान्यता दे दी गयी, जिसके अंतर्गत राज्य का विभाजन दो राज्यों में होना था एक अरब और एक यहूदी ! जबकि जेरुसलेम को संयुक्त राष्ट्र द्वारा राज्य करने की बात कहीं गयी इस व्यवस्था में जेरुसलेम को " सर्पुर इस्पेक्ट्रुम "(curpus spectrum) कहा गया !
 
इस व्यवस्था को यहूदियों द्वारा तुरंत मान्यता दे दी गयी वहीँ अरब समुदाय ने नवेम्बर १ १९४७ तीन देनोदिनों के बंद की घोषणा की ! इसी के साथ गृह युद्ध की स्तिथि बन गए और करीब २५०,००० फिलिस्तीनी लोगो ने राज्य छोड़ दिया।
१४ मई १९४८ को यहूदी समुदाय ने ब्रिटिश से पहले स्वतंत्रता की घोषणा कर दी और इजराइल को राष्ट्र घोषित कर दिया, तभी सिरिया, लीबिया तथा इराक ने इजराइल पर हमला कर दिया और तभी से १९४८ के अरब - इजराइल युद्ध की शुरुआत हुयी ! सउदी अरब ने भी तब अपनी सेना भेजकर और मिस्त्र की सहायता से आक्रमण किया और यमन भी युद्ध में शामिल हुआ, लगभग एक वर्ष के बाद युद्ध विराम की घोषणा हुयी और जोर्डन तथा इस्राइल के बीच सीमा रेखा अवतरित हुयी जैसे green line (हरी रेखा) कहा गया और मिस्त्र ने गज़ा पट्टी पर अधिकार किया, करीब ७००००० फिलिस्तीन इस युद्ध के दौरान विस्थापित हुए।
इजराइल ने ११ मई १९४९ में सयुक्त राष्ट्र की मान्यता हासिल की।
3

सम्पादन