"जयप्रकाश नारायण" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  1 वर्ष पहले
छो
बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।
(2405:204:951A:37FF:B05F:65FF:FEE2:278B (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 3677527 को पूर्...)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
छो (बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।)
: "भ्रष्टाचार मिटाना, बेरोजगारी दूर करना, शिक्षा में क्रांति लाना, आदि ऐसी चीजें हैं जो आज की व्यवस्था से पूरी नहीं हो सकतीं; क्योंकि वे इस व्यवस्था की ही उपज हैं। वे तभी पूरी हो सकती हैं जब सम्पूर्ण व्यवस्था बदल दी जाए और सम्पूर्ण व्यवस्था के परिवर्तन के लिए क्रान्ति, '''’सम्पूर्ण क्रान्ति'''’ आवश्यक है।"
 
सम्पूर्ण क्रान्ति के आह्वान उन्होंने श्रीमतिश्रीमती इंदिरा गांधी की सत्ता को उखाड़ फेंकने के लिए किया था।
 
लोकनायक नें कहा कि सम्पूर्ण क्रांति में सात क्रांतियाँ शामिल है— राजनैतिक, आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, बौद्धिक, शैक्षणिक व आध्यात्मिक क्रांति। इन सातों क्रांतियों को मिलाकर सम्पूर्ण क्रान्ति होती है।