"तांत्रिक वाङ्मय में शाक्त दृष्टि" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।
छो (बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।)
{{अनेक समस्याएँ|अद्यतन=जनवरी 2017|उल्लेखनीयता=जनवरी 2017|एकाकी=जनवरी 2017|प्रसंग=जनवरी 2017|प्राथमिक स्रोत=जनवरी 2017}}
{{Infobox किताब
| नाम = तांत्रिक वाङ्मयवांमय में शाक्त दृष्टि
| मुखपृष्ठ =
| मुखपृष्ठ_आकार =
| मुखपृष्ठ_शीर्षक = '' तांत्रिक वाङ्मयवांमय में शाक्त दृष्टि ''
| रचयिता = [[महामहोपाध्याय गोपीनाथ कविराज]]
| मूल_शीर्षक =
| टिप्पणियाँ = [[साहित्य अकादमी पुरस्कार]], [[1964]]
}}
''' तांत्रिक वाङ्मयवांमय में शाक्त दृष्टि ''' विख्यात [[संस्कृत]] साहित्यकार [[महामहोपाध्याय गोपीनाथ कविराज]] द्वारा रचित एक [[शोध]] है जिसके लिये उन्हें सन् 1964 में [[साहित्य अकादमी]] पुरस्कार से सम्मानित किया गया।<ref name="academy">{{cite web | url=http://sahitya-akademi.gov.in/sahitya-akademi/awards/akademi%20samman_suchi_h.jsp#hindi | title=अकादेमी पुरस्कार | publisher=साहित्य अकादमी | accessdate=4 सितंबर 2016}}</ref>
 
== सन्दर्भ ==