"बाल विवाह" के अवतरणों में अंतर

6 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
छो
बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।
(→‎top: ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: गया | → गया। , गयी | → गयी। , चाहिए | → चाहिए। , थी | → थी। , हुआ| → हुआ। , हैं...)
छो (बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।)
'''तो क्या यह प्रथा भारत में आदिकाल से ही थी? या इसे बाद में प्रचलन में लाया गया? और यदि बाद में लाया गया तो इसका क्या कारण था?'''
 
यह प्रथा भारत में शुरू से नहीं थी। ये दिल्ली सल्तनत के समय में अस्तित्व में आया जब राजशाही प्रथा प्रचलन में थी। भारतीय बाल विवाह को लड़कियों को विदेशी शासकों से बलात्कार और अपहरण से बचाने के लिये एक हथियार के रुपरूप में प्रयोग किया जाता था। बाल विवाह को शुरु करने का एक और कारण था कि बड़े बुजुर्गों को अपने पौतो को देखने की चाह अधिक होती थी इसलिये वो कम आयु में ही बच्चों की शादी कर देते थे जिससे कि मरने से पहले वो अपने पौत्रों के साथ कुछ समय बिता सकें।
 
'''बालविवाह के दुस्परिणाम?'''
'''क्या बालविवाह को रोकने के लिए कुछ नहीं किया गया?'''
 
बालविवाह को रोकने के लिए इतिहास में कई लोग आगे आये जिनमें सबसे प्रमुख '''राजाराम मोहन राय''',  '''केशबचन्द्र सेन''' जिन्होंने ब्रिटिश सरकार द्वारा एक बिल पास करवाया जिसे '''Special Marriage Act''' कहा जाता हैं इसके अंतर्गत शादी के लिए लडको की उम्र '''18 वर्ष''' एवं लडकियों की उम्र '''14 वर्ष''' निर्धारित की गयी एवं इसे प्रतिबंधित कर दिया गया। फिर भी सुधार न आने पर बाद में  '''Child Marriage Restraint  '''नामक बिल पास किया गया इसमें लडको की उम्र बढाकरबढ़ाकर '''21 वर्ष''' और लडकियों की उम्र बढाकरबढ़ाकर '''18 वर्ष'''  कर दी गयी। स्वतंत्र भारत में भी सरकार द्वारा भी इसे रोकने के कही प्रयत्न किये गए और कही क़ानून बनाये गए जिस से कुछ हद तक इनमे सुधार आया परन्तु ये पूर्ण रूप से समाप्त नहीं हुआ। सरकार द्वारा कुछ क़ानून बनाये गए हैं जैसे '''बाल-विवाह निषेध अधिनियम''' '''2006''' जो अस्तित्व में हैं। ये अधिनियम बाल विवाह को आंशिक रुपरूप से सीमित करने के स्थान पर इसे सख्ती से प्रतिबंधित करता है। इस कानून के अन्तर्गत, बच्चे अपनी इच्छा से वयस्क होने के दो साल के अन्दर अपने बाल विवाह को अवैध घोषित कर सकते है। किन्तु ये कानून मुस्लिमों पर लागू नहीं होता जो इस कानून का सबसे बड़ी कमी है।  
 
'''बाल विवाह को रोकने हेतु उपाय?'''