"विज्ञापन अभियान" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् नीकाले गए ,  3 वर्ष पहले
छो
बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।
(ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: नही → नहीं (2), है की → है कि (2))
छो (बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।)
{{स्रोतहीन|date=मई 2015}}
विज्ञापन आज के समय में अतिरञ्जितअतिरंजित यथार्थ के अलावा कुछ भी नहीं है। वह लोगों को उकसा कर किसी खास उत्पाद को खरीदने के लिये प्रेरित करता है। लेकिन यह आसान काम नहीं है। बेहतर विज्ञापन प्रभाव पैदा करने के लिये विज्ञापन अभीयान चलाया जाता है। यह असल में लक्षित-समुह को ध्यान में रख चलाया जाता है। फौजी अभियान कि तरह एक सुव्यवस्थित रणनीति अपनाई जाती है।<ref>Belch, George, and Belch, Michael, eds. 2004. Advertising and Promotion: an integrated marketing communications perspective. MacGraw-Hill/Irwin.</ref>
 
==प्रकार==