"शुंग राजवंश" के अवतरणों में अंतर

9 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
छो
बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।
(ऑटोमेटिक वर्तनी सु, replaced: मे → में , शासको → शासकों , है की → है कि , →)
छो (बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।)
इस वंश के शासकों की सूची इस प्रकार है -
 
* [[पुष्यमित्र शुङ्गशुंग]] (185 - 149 BCE)
* [[अग्निमित्र]] (149 - 141 BCE)
* [[वसुज्येष्ठ]] (141 - 131 BCE)
* [[अन्ध्रक]] (124 - 122 BCE)
* [[पुलिन्दक]] (122 - 119 BCE)
* [[घोष शुङ्गशुंग]]
* [[वज्रमित्र]]
* [[भगभद्र]]
कहा जाता है कि [[पुष्यमित्र शुंग]], जो [[बृहद्रथ मौर्य]] की सेना का सेनापति था, ने सेना का निरीक्षण करते वक्त बृहद्रथ मौर्य को मार दिया था और सत्ता पर अधिकार कर बैठा था। पुष्यमित्र ने 36 वर्षों तक शासन किया और उसके बाद उसका पुत्र अग्निमित्र सत्तासीन हुआ। आठ वर्षों तक शासन करने के बाद 140 ईसापूर्व के पास उसका पुत्र जेठमित्र (ज्येष्ठमित्र) शासक बना।
 
पुष्यमित्र के शासनकाल की एक महत्वपूर्ण घटना थी, पश्चिम से यवनों (यूनानियों) का आक्रमण। वैयाकरण [[पतञ्जलिपतंजलि]], जो कि पुष्यमित्र का समकालीन थे, ने इस आक्रमण का उल्लेख किया है। [[कालिदास]] ने भी अपने नाटक [[मालविकाग्निमित्रम]] में वसुदेव का यवनों के साथ युद्ध का ज़िक्र किया है।
भरहुत स्पूत का निर्माण पुष्यमित्र ने करवाया था शुंग शासकों ने अपनी राजधानी विदिशा में स्थापित किया था