"समराङ्गणसूत्रधार" के अवतरणों में अंतर

102 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
छो
बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।
छो (HotCat द्वारा श्रेणी:राजा भोज जोड़ी)
छो (बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।)
'''समराङ्गणसूत्रधारसमरांगणसूत्रधार''' भारतीय [[वास्तुशास्त्र]] से सम्बन्धित ज्ञानकोशीय ग्रन्थ है जिसकी रचना [[धार]] के परमार राजा [[भोज]] (1000–1055 ई) ने की थी।
 
==परिचय==
===विमानविद्या===
यंत्रविधान के निम्नलिखित श्लोक 'विमान' के सम्बन्ध में हैं- <ref>[https://in.groups.yahoo.com/neo/groups/SUMADHWASEVA/conversations/messages/32609 From the book War in Ancient India by V.R. Ramachandra Dikshitar (First Edition 1944)] </ref>
: लघुदारुमयं महाविहङ्गंमहाविहंगं दृढसुश्लिष्टतनुं विधाय तस्य
: उदरे रसयन्त्रमादधीत ज्वलनाधारमधोऽस्य चातिपूर्णम्॥ ९५
 
: सुप्तस्वान्त: पारदस्यास्य शक्त्या चित्रं कुर्वन्नम्बरे याति दूरम्॥ ९६
 
: इत्थमेव सुरमन्दिरतुल्यं सञ्चलत्यलघुसंचलत्यलघु दारुविमानम्
: आदधीत विधिना चतुरोऽन्तस्तस्य पारदभृतान् दृढकुम्भान्॥ ९७
 
बहती हुई जलधारा का भार तथा वेग का शक्ति उत्पादन हेतु हाइड्रोलिक मशीन में उपयोग किया जाता है। जलधारा वस्तु को घुमाती है और ऊंचाई से धारा गिरे तो उसका प्रभाव बहुत होता है और उसके भार व वेग के अनुपात में धूमती है। इससे शक्ति उत्पन्न होती है।
 
:सङ्गृहीतश्चसंगृहीतश्च दत्तश्च पूरित: प्रतनोदित:।
:मरुद्‌ बीजत्वमायाति यंत्रेषु जलजन्मसु॥ समरांगण-३१
 
==संरचना==
:'''समरांगणसूत्रधार के ८३ अध्यायों के नाम-'''
# समराङ्गणसूत्रधारासमरांगणसूत्रधारा नाम प्रथमोऽध्यायः
# विश्वकर्मणः पुत्रसंवादो नाम द्वितीयोऽध्यायः
# प्रश्नो नाम तृतीयोऽध्यायः
# महदादिसर्गश्चतुर्थोऽध्यायः
# भुवनकोशः पञ्चमोऽध्यायःपंचमोऽध्यायः
# सहदेवाधिकारः षष्ठोऽध्यायः
# वर्णाश्रमप्रविभागः सप्तमोऽध्यायः
# नाड्यादिसिरादिविकल्पो नाम द्वादशोऽध्यायः
# मर्मवेधस्त्रयोदशोऽध्यायः
# पुरुषांगदेवतानिघण्ट्वादिनिर्णयश्चतुर्दशोऽध्यायः
# पुरुषाङ्गदेवतानिघण्ट्वादिनिर्णयश्चतुर्दशोऽध्यायः
# राजनिवेशो नाम पञ्चदशोऽध्यायःपंचदशोऽध्यायः
# वनप्रवेशो नाम षोडशोऽध्यायः
# इन्द्र ध्वजनिरूपणं नाम सप्तदशोऽध्यायः
# एकशालालक्षणफलादि नाम त्रयोविंशोऽध्यायः
# द्वारपीठभित्तिमानादिकं नाम चतुर्विंशोऽध्यायः
# समस्तगृहाणां सङ्ख्याकथनंसंख्याकथनं नाम पञ्चविंशोऽध्यायःपंचविंशोऽध्यायः
# आयादिनिर्णयो नाम षड्विंशोऽध्यायः
# सभाष्टकं नाम सप्तविंशोऽध्यायः
# अथाश्वशाला नाम त्रयस्त्रिंशोऽध्यायः
# अथाप्रयोज्यप्रयोज्यं नाम चतुस्त्रिंशोऽध्यायः
# शिलान्यासविधिर्नाम पञ्चत्रिंशोऽध्यायःपंचत्रिंशोऽध्यायः
# बलिदानविधिर्नाम षट्त्रिंशोऽध्यायः
# कीलकसूत्रपातो नाम सप्तत्रिंशोऽध्यायः
# चयविधिर्नामैकचत्वारिंशोऽध्यायः
# शान्तिकर्मविधिर्नाम द्विचत्वारिंशोऽध्यायः
# द्वारभङ्गफलंद्वारभंगफलं नाम त्रिचत्वारिंशोऽध्यायः
# स्थपतिलक्षणं नाम चतुश्चत्वारिंशोऽध्यायः
# अष्टंगलक्षणं नाम पंचचत्वारिंशोऽध्यायः
# अष्टङ्गलक्षणं नाम पञ्चचत्वारिंशोऽध्यायः
# तोरणभङ्गादिशान्तिकोतोरणभंगादिशान्तिको नाम षट्चत्वारिंशोऽध्यायः
# वेदीलक्षणं नाम सप्तचत्वारिंशोऽध्यायः
# गृहदोषनिरूपणं नामाष्टचत्वारिंशोऽध्यायः
# रुचकादिप्रासादलक्षणं नामैकोनपञ्चाशोऽध्यायःनामैकोनपंचाशोऽध्यायः
# प्रासादशुभाशुभलक्षणं नाम पञ्चाशोऽध्यायःपंचाशोऽध्यायः
# अथायतननिवेशो नामैकपञ्चाशोऽध्यायःनामैकपंचाशोऽध्यायः
# प्रासादजातिर्नाम द्विपञ्चाशोऽध्यायःद्विपंचाशोऽध्यायः
# जघन्यवास्तुद्वारं नाम त्रिपञ्चाशोऽध्यायःत्रिपंचाशोऽध्यायः
# प्रासादद्वारमानादि नाम चतुष्पञ्चाशोऽध्यायःचतुष्पंचाशोऽध्यायः
# मेर्वादिषोडशप्रासादादिलक्षणं नाम पञ्चपञ्चाशोऽध्यायःपंचपंचाशोऽध्यायः
# रुचकादिचतुष्षष्टिप्रासादकः षट्पञ्चाशोऽध्यायःषट्पंचाशोऽध्यायः
# मेर्वादिविंशिका नाम सप्तपञ्चाशोऽध्यायःसप्तपंचाशोऽध्यायः
# प्रासादस्तवनं नाम अष्टपञ्चाशोऽध्यायःअष्टपंचाशोऽध्यायः
# विमानादिचतुष्षष्टिप्रासादलक्षणं नामैकोनषष्टितमोऽध्यायः
# श्रीकूटादिषट्त्रिंशत्प्रासादलक्षणं नाम षष्टितमोऽध्यायः
# पीठपञ्चकलक्षणंपीठपंचकलक्षणं नामैकषष्टितमोऽध्यायः
# द्रा विडप्रासादलक्षणं नाम द्विषष्टितमोऽध्यायः
# मेर्वादिविंशिकानागरप्रासादलक्षणं नाम त्रिषष्टितमोऽध्यायः
# दिग्भद्रा दिप्रासादलक्षणं नाम चतुष्षष्टितमोऽध्यायः
# भूमिजप्रासादलक्षणं नाम पञ्चषष्टितमोऽध्यायःपंचषष्टितमोऽध्यायः
# मण्डपलक्षणं नाम षट्षष्टितमोऽध्यायः
# सप्तविंशतिमण्डपलक्षणं नाम सप्तषष्टितमोऽध्यायः
# जगत्यङ्गसमुदायाधिकारोजगत्यंगसमुदायाधिकारो नामाष्टषष्टितमोऽध्यायः
# जगतीलक्षणं नामैकोनसप्ततितमोऽध्यायः
# लिङ्गपीठप्रतिमालक्षणंलिंगपीठप्रतिमालक्षणं नाम सप्ततितमोऽध्यायः
# चित्रोद्देशो नामैकसप्ततितमोऽध्यायः
# भूमिबन्धो नाम द्विसप्ततितमोऽध्यायः
# लेप्यकर्मादिकं नाम त्रिसप्ततितमोऽध्यायः
# अथाण्डकप्रमाणं नाम चतुःसप्ततितमोऽध्यायः
# मानोत्पत्तिर्नाम पञ्चसप्ततितमोऽध्यायःपंचसप्ततितमोऽध्यायः
# प्रतिमालक्षणं नाम षट्सप्ततितमोऽध्यायः
# देवादिरूपप्रहरणसंयोगलक्षणं नाम सप्तसप्ततितमोऽध्यायः
# ऋज्वागतादिस्थानलक्षणं नामैकोनाशीतितमोऽध्यायः
# वैष्णवादिस्थानकलक्षणं नामाशीतितमोऽध्यायः
# पञ्चपुरुषस्त्रीलक्षणंपंचपुरुषस्त्रीलक्षणं नामैकाशीतितमोऽध्यायः
# रसदृष्टिलक्षणं नाम द्व्यशीतितमोऽध्यायः
# पताकादिचतुष्षष्टिहस्तलक्षणं नाम त्र्यशीतितमोऽध्यायः
*[http://archive.indianexpress.com/news/pune-s-octogenarian-translates-1000yearold-book-by-raja-bhoja/1146884/ Pune’s octogenarian translates 1000-year-old book by Raja Bhoja]
===समरांगसूत्रधार का पाठ===
*[https://sa.wikisource.org/wiki/%E0%A4%B8%E0%A4%AE%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%99%E0%A5%8D%E0%A4%97%E0%A4%A3%E0%A4%B8%E0%A5%82%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%A7%E0%A4%BE%E0%A4%B0 समराङ्गणसूत्रधारसमरांगणसूत्रधार] (संस्कृत विकिस्रोत)
*[https://drive.google.com/file/d/0B0m3vntFYeEGVTlkSmhzTkxTSEE/edit समरांगणसूत्रधार]
*[http://peterffreund.com/Vedic_Literature/Vedic%20Literature%20Unicode/Upaveda/Sthapatya%20Veda/samaranganasutradhara.rtf समराङ्गणसूत्रधारसमरांगणसूत्रधार] (आरटीएफ)
 
[[श्रेणी:संस्कृत ग्रन्थ]]