"सिद्धान्त शिरोमणि" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।
(चित्र जोड़ें AWB के साथ)
छो (बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।)
समय-मापन के लिये सिद्धान्तशिरोमणि के यन्त्राध्याय में '''जलचक्रयन्त्र''' का वर्णन है-
: ''लघुदारुजसमचक्रे समसुषिराराः समान्तरा नेम्याम्।
: ''किञ्चिद्बक्रातोज्याःकिंचिद्बक्रातोज्याः सुषिरस्यार्धे पृथक् तासाम्॥50
 
: ''रसपूर्णे तच्चक्रं द्व्याधाराक्षस्थितं स्वयं भ्रमति॥"
: ''ताम्रादिमयस्यांकुशरूपनलस्याम्बुपूर्णस्य॥53
: ''ताम्रादिमयस्याङ्कुशरूपनलस्याम्बुपूर्णस्य॥53
 
: ''एकं कुण्डजलान्तर्द्वितीयमग्रं त्वधोमुखञ्चत्वधोमुखंच बहिः।
: ''युगपन्मुक्तं चेत् कं नलेन कुण्डाद्बहिः पतति॥54