"केशवदास": अवतरणों में अंतर

4 बाइट्स जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
छो (223.230.190.232 (Talk) के संपादनों को हटाकर अनुनाद सिंह के आखिरी अव...)
 
==== संवाद योजना ====
[[दरबारी]] कवि होने के कारण केशव में राजदरबारों की वाक्पटुता वर्तमान थी। अतः संवादों की योजना में उन्हें असाधारण सफलता मिली। उनके संवाद अत्यन्त आकर्षक हैं। उनमें राजदरबारों जैसी हाज़िर-जवाबी और शिष्टता है। उनके द्वारा चरित्रों का उद्धाटन सुंदर ढंग से हुआ है। जनक-विश्वामित्र संवाद, लव-कुश संवाद, सीता-हनुमान संवाद इसी प्रकार के संवाद हैं।
 
'अंगद-रावण-संवाद' के अन्तर्गत एक उत्तर-प्रत्युत्तर देखिए -
गुमनाम सदस्य