"बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय" के अवतरणों में अंतर

→‎रचनाएँ: सन्यासी शब्द अर्थहीन है। संन्यासी मूल शब्द है, उपर्युक्त शब्द में अनुस्वार का लोप था।
छो (बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।)
(→‎रचनाएँ: सन्यासी शब्द अर्थहीन है। संन्यासी मूल शब्द है, उपर्युक्त शब्द में अनुस्वार का लोप था।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
बंकिमचंद्र चटर्जी की पहचान बांग्ला कवि, उपन्यासकार, लेखक और पत्रकार के रूप में है। उनकी प्रथम प्रकाशित रचना [[राजमोहन्स वाइफ]] थी। इसकी रचना [[अंग्रेजी]] में की गई थी। उनकी पहली प्रकाशित बांग्ला कृति '[[दुर्गेशनंदिनी]]' मार्च १८६५ में छपी थी। यह एक रूमानी रचना है। उनकी अगली रचना का नाम [[कपालकुंडला]] (1866) है। इसे उनकी सबसे अधिक रूमानी रचनाओं में से एक माना जाता है। उन्होंने 1872 में मासिक पत्रिका [[बंगदर्शन]] का भी प्रकाशन किया। अपनी इस पत्रिका में उन्होंने [[विषवृक्ष]] (1873) उपन्यास का क्रमिक रूप से प्रकाशन किया। [[कृष्णकांतेर विल]] में चटर्जी ने अंग्रेजी शासकों पर तीखा व्यंग्य किया है।
 
[[आनंदमठ]] (१८८२) राजनीतिक उपन्यास है। इस उपन्यास में उत्तर बंगाल में 1773 के [[सन्यासीसंन्यासी विद्रोह]] का वर्णन किया गया है। इस पुस्तक में [[देशभक्ति]] की भावना है। चटर्जी का अंतिम उपन्यास [[सीताराम]] (1886) है। इसमें मुस्लिम सत्ता के प्रति एक हिंदू शासक का विरोध दर्शाया गया है।
 
उनके अन्य उपन्यासों में दुर्गेशनंदिनी, [[मृणालिनी]], [[इंदिरा]], [[राधारानी]], [[कृष्णकांतेर दफ्तर]], [[देवी चौधरानी]] और [[मोचीराम गौरेर जीवनचरित]] शामिल है। उनकी कविताएं [[ललिता ओ मानस]] नामक संग्रह में प्रकाशित हुई। उन्होंने धर्म, सामाजिक और समसामायिक मुद्दों पर आधारित कई निबंध भी लिखे।
4

सम्पादन