"हास्य": अवतरणों में अंतर

348 बाइट्स जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
No edit summary
 
बन्दर ने कहा बंदरिया से चलो नहाने चले गंगा।
बच्चो को छोड़ेंगे घर पे वही करेंगे हुडदंगा।।हुडदंगा॥
 
==इन्हें भी देखें==
* [[व्यंग्य]]
* [[प्रहसन]]
* [[चुटकुले]]
* [[हास्यरस तथा उसका साहित्य (संस्कृत, हिन्दी)]]
*[[हास्य रस तथा उसका साहित्य]]
 
[[श्रेणी:रस]]