मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

46 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
'''कृषि''' खेती और वानिकी के माध्यम से खाद्य और अन्य सामान के उत्पादन से संबंधित है। कृषि एक मुख्य विकास था, जो [[सभ्यता|सभ्यताओं]] के उदय का कारण बना, इसमें [[पशुपालन|पालतू]] [[जानवर|जानवरों]] का पालन किया गया और पौधों ([[फसलें|फसलों]]) को उगाया गया, जिससे [[अतिरिक्त]] खाद्य का उत्पादन हुआ। इसने अधिक [[जनसंख्या घनत्व|घनी आबादी]] और [[सामाजिक संतुष्टि|स्तरीकृत]] समाज के विकास को सक्षम बनाया। कषि का अध्ययन [[कृषि विज्ञान]] के रूप में जाना जाता है (इससे संबंधित अभ्यास [[बागवानी]] का अध्ययन [[बागवानी|होर्टीकल्चर]] में किया जाता है)।
 
तकनीकों और विशेषताओं की बहुत सी किस्में कृषि के अन्तर्गत आती है, इसमें वे तरीके शामिल हैं जिनसे पौधे उगाने के लिए उपयुक्त भूमि का विस्तार किया जाता है, इसके लिए पानी के चैनल खोदे जाते हैं और सिंचाई के अन्य रूपों का उपयोग किया जाता है। [[खेती|कृषि योग्य भूमि]] पर फसलों को [[कृषि योग्य भूमि|उगाना]] और चारागाहों और [[ग्रामीण काव्य|रेंजलैंड]] पर [[समूहीकरण|पशुधन]] को [[पशुधन|गड़रियों]] के द्वारा [[परास भूमि|चराया जाना]], मुख्यतः कृषि से सम्बंधित रहा है। कृषि के भिन्न रूपों की पहचान करना व उनकी मात्रात्मक वृद्धि, पिछली शताब्दी में विचार के मुख्य मुद्दे बन गए।
विकसित दुनिया में यह क्षेत्र [[स्थायी कृषि|जैविक कृषि]] (उदाहरण [[पर्माकल्चर]] या [[कार्बनिक खेती|कार्बनिक कृषि]]) से लेकर [[गहन कृषि]] (उदाहरण [[औद्योगिक कृषि]]) तक फैली है।