"भरतनाट्यम्" के अवतरणों में अंतर

30 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
भरतनाट्यम् वास्तविक शब्द
(चित्र लगाया)
(भरतनाट्यम् वास्तविक शब्द)
{{आधार}}
[[File:Bharata Natyam Performance DS.jpg|thumb|350px|भरतनाट्यमभरतनाट्यम् नृत्य]]
[[चित्र:Dance bharatanatyam.jpg|thumb|right|150px|भरतनाट्यमभरतनाट्यम् नृत्य पर डाक टिकट]]'''भरतनाट्यमभरतनाट्यम्''' या '''चधिर अट्टम''' मुख्य रूप से दक्षिण भारत की शास्त्रीय नृत्य शैली है। यह [[भरत मुनि]] के [[नाट्य शास्त्र]] (जो ४०० ईपू का है) पर आधारित है। वर्तमान समय में इस नृत्य शैली का मुख्य रूप से महिलाओं द्वारा अभ्यास किया जाता है। इस नृत्य शैली के प्रेरणास्त्रोत चिदंबरम के प्राचीन मंदिर की मूर्तियों से आते हैं।
 भरतनाट्यमभरतनाट्यम् को सबसे प्राचीन नृत्य माना जाता है। इस नृत्य को तमिलनाडु में देवदासियों द्वारा विकसित व प्रसारित किया गया था। शुरू शुरू में इस नृत्य को देवदासियों के द्वारा विकसित होने के कारण उचित सम्मान नहीं मिल पाया| लेकिन बीसवी सदी के शुरू में ई. कृष्ण अय्यर और रुकीमणि देवी के प्रयासों से इस नृत्य को दुबारा स्थापित किया गया। भरत नाट्यम के दो भाग होते हैं इसे साधारणत दो अंशों में सम्पन्न किया जाता है पहला नृत्य और दुसरा अभिनय| नृत्य शरीर के अंगों से उत्पन्न होता है इसमें रस, भाव और काल्पनिक अभिव्यक्ति जरूरी है।
 
भरतनाट्यमभरतनाट्यम् में शारीरिक प्रक्रिया को तीन भागों में बांटा जाता है -: समभंग, अभंग, त्रिभंग भरत नाट्यम में नृत्य क्रम इस प्रकार होता है।
आलारिपु - इस अंश में कविता(सोल्लू कुट्टू ) रहती है। इसी की छंद में आवृति होती है। तिश्र या मिश्र छंद तथा करताल और मृदंग के साथ यह अंश अनुष्ठित होता है, इसे इस नृत्यानुष्ठान कि भूमिका कहा जाता है।
जातीस्वरम - यह अंश कला ज्ञान का परिचय देने का होता है इसमें नर्तक अपने कला ज्ञान का परिचय देते हैं। इस अंश में स्वर मालिका के साथ राग रूप प्रदर्शित होता होता है जो कि उच्च कला कि मांग करता है।
शब्दम - ये तीसरे नम्बर का अंश होता है। सभी अंशों में यह अंश सबसे आकर्षक अंश होता है। शब्दम में नाट्यभावों का वर्णन किया जाता है। इसके लिए बहुविचित्र तथा लावण्यमय नृत्य पेश करेक नाट्यभावों का वर्णन किया जाता है।
वर्णम - इस अंश में नृत्य कला के अलग अलग वर्णों को प्रस्तुत किया जाता है। वर्णम में भाव, ताल और राग तीनों कि प्रस्तुति होती है। भरतनाट्यमभरतनाट्यम् के सभी अंशों में यह अंश भरतनाट्यमभरतनाट्यम् का सबसे चुनौती पूर्ण अंश होता है।
पदम - इस अंश में सात पन्क्तियुक्त वन्दना होती है। यह वन्दना संस्कृत, तेलुगु, तमिल भाषा में होती है। इसी अंश में नर्तक के अभिनय की मजबूती का पता चलता है।
तिल्लाना - यह अंश भरतनाट्यमभरतनाट्यम् का सबसे आखिरी अंश होता है। इस अंश में बहुविचित्र नृत्य भंगिमाओं के साथ साथ नारी के सौन्दर्य के अलग अलग लावणयों को दिखाया जाता है।
== अंग ==
इसके तीन प्रमुख अंग हैं:
[[File:Bharatnatyam different facial expressions (5).jpg|thumb|left|450px|चेहरे की भावभंगिमा]]
[[File:Bharatnatyam logo.png|thumb|भरतनात्यम का प्रतीक चिन्ह ]]
[[File:Bharatnatyam- The Indian Classical Dance.jpg|thumb|भरतनाट्यमभरतनाट्यम्- भारतीय शास्त्रीय नृत्य]]
[[File:Bharatnatyam dance ganesh pose.jpg|thumb|भरतनाट्यमभरतनाट्यम् गणेश मुद्रा]]
===चेहरे की भावभंगिमा===
<gallery>
9,893

सम्पादन