"नंदलाल बोस": अवतरणों में अंतर

2,959 बाइट्स जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
(Reverted to revision 3567497 by Dharmadhyaksha: ग़ैरविकिप्रारूप पाठ और हिंदी है हम वेबसाइट की कड़ीं. (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
No edit summary
नन्दलाल बोस का जन्म दिसंबर 1882 में [[बिहार]] के हवेली खडगपुर, जिला मुंगेर में हुआ। उनके पिता पूर्णचंद्र बोस ऑर्किटेक्ट तथा महाराजा दरभंगा की रियासत के मैनेजर थे।<ref>{{cite web |url= http://www.greatbanyanart.com/byartist.asp?aid=332|title=नन्दलाल बोस|accessmonthday=[[20 जून]]|accessyear=[[2007]] |format= एएसपी|publisher= ग्रेट बनयान ऑक्शन कं.|language=अंग्रेज़ी}}</ref> 16 अप्रैल 1966 [[कोलकाता]] में उनका देहांत हुआ।<ref>{{cite web |url= http://www.indianartcircle.com/arteducation/bose.shtml
|title=नन्दलाल बोस|accessmonthday=[[20 जून]]|accessyear=[[2007]] |format= एसएचटीएमएल|publisher= इंडियन आर्ट सर्किल|language=अंग्रेज़ी}}</ref> उन्होंने 1905 से 1910 के बीय कलकत्ता गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ़ आर्ट में अबनीन्द्ननाथ ठाकुर से कला की शिक्षा ली, इंडियन स्कूल ऑफ़ ओरियंटल आर्ट में अध्यापन किया और 1922 से 1951 तक [[शान्तिनिकेतन]] के कलाभवन के प्रधानाध्यापक रहे।
 
नंदलाल बोस आधुनिक भारतीय कला के आरंभिक कलाकारों में से एक थे. इन्हें भारतीय शैली के एक प्रसिद्ध  चित्रकार के रूप में पहचाना जाता था. जोकि [[अवनींद्र नाथ टैगोर|अवनीन्द्रनाथ टैगोर]] के प्रख्यात शिष्य थे.उनके चित्र कला में  टैगोर परिवार तथा अजंता के [[भित्तिचित्र कला|भित्ति चित्रों]] की गहरी छाप थी. उन्हें सन 1922 में  शान्तिनिकेतन में  स्थित कला भवन का प्रमुख चुना गया था.सन 1976 में  भारत सरकार के संस्कृति विभाग और भारतीय पुरातत्व संग्रह ने उनकी [[चित्रकला|चित्रकारी]]  तथा कलात्मक  महत्व और कला के प्रति गहरी  सोच को देखते हुए उन्हें बहुमूल्य कला निधि के रूप में घोषित किया.
 
'''पुरस्कार और सम्मान :'''
 
सन 1954 में उन्हें [[पद्म भूषण]] से सम्मानित किया गया.
 
सन 1956 में उन्हें ललित कला अकादमी का फेल्लो के रूप में चुना गया.
 
ललित कला अकादमी का फेल्लो चुने जाने वाले वे दूसरे कलाकार थे.
 
सन 1957 में [[कलकत्ता विश्वविद्यालय]] ने उन्हें ‘डी.लिट.’ की उपाधि से सम्मानित किया गया.
 
विश्वभारती विश्वविद्यालय ने उन्हें देशीकोट्टम्मा की उपाधि से नवाज़ा.
 
कलकत्ता के ‘अकादेमी ऑफ़ फाइन आर्ट्स’ ने उन्हें ‘सिल्वर जुबली मैडल’ दे कर सम्मानित किया.
 
सन 1965 में एशियाटिक सोसाइटी ऑफ़ बंगाल ने उन्हें "टैगोर जन्म सदी पदक" दिया.
 
 
----
<references/>
 
'''बाहरी कड़िया'''
 
[https://www.wahh.in/2018/04/Nandlal-Bose-Biography-Hindi.html नंदलाल बोस जीवनी]
 
 
11

सम्पादन